वकीलों और पुलिस के बीच हिंसा पर बार काउंसिल का बड़ा बयान, कहा - हम सहानुभूति खोते जा रहे हैं...

बीसीआई के अध्यक्ष मनन कुमार मिश्रा ने अपने पत्र में कहा कि ऐसे उपद्रवी तत्व संस्थान की छवि को धूमिल कर रहे हैं और यह इन अधिवक्ताओं को प्रोत्साहित करने वाले बार निकायों की निष्क्रियता और सहिष्णुता है.

वकीलों और पुलिस के बीच हिंसा पर बार काउंसिल का बड़ा बयान, कहा - हम सहानुभूति खोते जा रहे हैं...

बार काउंसिल ने वकीलों से की अपील

नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच तीस हजारी कोर्ट में हुई झड़प के बाद बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने विभिन्न बार को एक पत्र लिखा है. बार काउंसिल ने अपने पत्र में कहा कि हमें उन वकीलों की पहचान करनी चाहिए जो गुंडागर्दी में लिप्त रहे थे. साथ ही बार काउंसिल ने वकीलों से अनुरोध भी किया कि वे अपना विरोध समाप्त करें. काउंसलि ने अपने पत्र में लिखा कि वकीलों द्वारा की गई हिंसा की वजह से आज हम लोगों के बीच सहानुभूति खोते जा रहे हैं. बीसीआई के अध्यक्ष मनन कुमार मिश्रा ने अपने पत्र में कहा कि ऐसे उपद्रवी तत्व संस्थान की छवि को धूमिल कर रहे हैं और यह इन अधिवक्ताओं को प्रोत्साहित करने वाले बार निकायों की निष्क्रियता और सहिष्णुता है, जिसके परिणामस्वरूप अंततः उच्च न्यायालयों या सुप्रीम कोर्ट द्वारा "अवमानना कार्यवाही" की जाएगी. पत्र में कहा गया है कि साकेत कोर्ट के वकील द्वारा पुलिस कर्मी की पिटाई, ऑटो चालक के साथ धक्कामुक्की और आम नागरिकों की पिटाई जैसी घटनाएं बेहद शर्मनाक है. बार काउंसिल ऑफ इंडिया इसे कभी बर्दाश्त नहीं करेगा. 

बार काउंसिल ने की झड़प की निंदा, 4 नवंबर को दिल्ली की सभी अदालतों में हड़ताल का आह्वान

बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) ने शनिवार को तीस हजारी अदालत परिसर में झड़प के दौरान कथित पुलिस कार्रवाई की निंदा की, जिसमें लगभग 10 पुलिस कर्मी और कई वकील घायल हो गए थे. बीसीआई ने इस पुलिस कार्रवाई को क्रूर करार दिया और पुलिस के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की थी. बार एसोसिएशनों ने सोमवार को दिल्ली की सभी जिला अदालतों में काम का बहिष्कार करने का फैसला किया है. अधिकारियों और प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया था कि शनिवार को दोपहर में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प हो गयी. इस झड़प के दौरान 17 वाहनों में तोड़फोड़ की गई. इस बीच दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल ने शनिवार को वरिष्ठ न्यायाधीशों के साथ इस मामले को लेकर पांच घंटे तक बैठक की. 

दिल्ली में कानून ठेंगे पर : इन दो VIDEO में देखें तीस हजारी कोर्ट में कैसे चले वकीलों और पुलिस के बीच लात-घूंसे

आपको बता दें कि पूरी घटना का दो सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया था. पहले फुटेज में दिख रहा है कि किस तरह से वकीलों का झुंड तीस हजारी कोर्ट के लॉकअप के अंदर घुस रहा था और पुलिसकर्मियों को बेरहमी से पीट रहा है. फुटेज में दिख रहा है कि एक पुलिसकर्मी को वकीलों ने बेल्ट से इतनी बुरी तरह पीटा कि वह बेहोश होकर गिर पड़ा. वहीं, दूसरे फुटेज में दिख रहा है कि पहले लॉकअप के बाहर पुलिसवालों और वकीलों में मारपीट होती है. फिर पुलिसवाले इकठ्ठा होकर एक वकील को मारते हुए अंदर ले आते हैं.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com