बासमती चावल GI टैग मामला: शिवराज सिंह चौहान ने सोनिया गांधी को लिखा पत्र

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोनिया गांधी को लिखे पत्र में कहा है, ‘‘मैं इस पत्र के माध्यम से आपसे अत्यंत विनम्रता पूर्वक यह पूछना चाहता हूं कि कांग्रेस पार्टी मध्य प्रदेश के किसानों के विरुद्ध क्यों खड़ी है?

बासमती चावल GI टैग मामला: शिवराज सिंह चौहान ने सोनिया गांधी को लिखा पत्र

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

मध्यप्रदेश को बासमती चावल की जीआई टैग मिलने के नाम पर बीजेपी और कांग्रेस के बीच राजनीति तेज हो गयी है. पहले पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर पंजाब तथा अन्य राज्यों के हित में मध्यप्रदेश को बासमती चावल की जीआई टैग की अनुमति नहीं देने का अनुरोध किया था. जिसके बाद पलटवार करते हुए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पत्र लिखकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से प्रश्न किया है कि कांग्रेस पार्टी मध्य प्रदेश के किसानों के विरुद्ध क्यों खड़ी है. 

मुख्यमंत्री शिवराज ने सोनिया गांधी को लिखे पत्र में कहा है, ‘‘मैं इस पत्र के माध्यम से आपसे अत्यंत विनम्रता पूर्वक यह पूछना चाहता हूं कि कांग्रेस पार्टी मध्य प्रदेश के किसानों के विरुद्ध क्यों खड़ी है? एक ओर जहां पूरा देश कोरोना वायरस संकट से जूझ रहा है, अर्थव्यवस्था ध्वस्त हुई पड़ी है, हम अपने किसानों की हर संभव मदद कर रहे हैं'' उन्होंने कहा, ‘‘अत्यंत विपरीत परिस्थितियों में भी मध्य प्रदेश सरकार ने किसानों का गेहूं समर्थन मूल्य पर उपार्जित किया। वहीं, दूसरी ओर कांग्रेस शासित राज्यों की किसानों के प्रति संवेदनहीनता अत्यंत पीड़ा दायक है.''

राहुल गांधी को दिग्व‍िजय सिंह की सलाह पर भड़के कांग्रेस सांसद और फिर...


उन्होंने आगे लिखा है, ‘‘मध्य प्रदेश के किसानों के साथ आपकी पार्टी की क्या दुश्मनी है? यदि मध्य प्रदेश का किसान तरक्की करता है, आगे बढ़ता है, तो आपको क्या परेशानी है? क्यों आपके मुख्यमंत्री खुलेआम मध्य प्रदेश के किसानों के विरुद्ध काम करते हैं?''उन्होंने कहा, ‘‘इस पत्र के माध्यम से न केवल मैं, बल्कि मध्य प्रदेश का हर एक किसान आपसे प्रश्न कर रहा है? आपसे शीघ्र उत्तर की आशा है.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: अंतरराष्ट्रीय ठगों ने की बासमती चावल की बड़ी जालसाजी