NDTV Khabar

बीसीसीआई को आरटीआई के दायरे में लाया जाए: विधि आयोग

विधि मंत्रालय को सौंपी गई रिपोर्ट में विधि आयोग ने कहा है कि बीसीसीआई को संविधान के अनुच्छेद 12 के तहत शासन की परिभाषा के तहत लाया जाना चाहिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बीसीसीआई को आरटीआई के दायरे में लाया जाए: विधि आयोग

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली: विधि आयोग ने बुधवार को कहा कि भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड ( बीसीसीआई ) को सूचना का अधिकार ( आरटीआई ) कानून के दायरे में लाया जाना चाहिए. आयोग ने कहा कि यह लोक प्राधिकार की परिभाषा में आता है और इसे सरकार से अच्छा खासा वित्तीय लाभ मिलता है. गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने जुलाई 2016 में आयोग से इस बारे में सिफारिश करने के लिए कहा था, कोर्ट ने पूछा था कि क्रिकेट बोर्ड को सूचना का अधिकार कानून के तहत लाया जा सकता है या नहीं. पारदर्शिता लाने के लिए क्रिकेट बोर्ड को आरटीआई के तहत लाने की लंबे वक्त से मांग होती रही है.

यह भी पढ़ें: सलाहाकार मामला: राघव चड्ढा ने ढाई रु मेहनताना गृह मंत्रालय को लौटाया

विधि मंत्रालय को सौंपी गई रिपोर्ट में विधि आयोग ने कहा है कि बीसीसीआई को संविधान के अनुच्छेद 12 के तहत शासन की परिभाषा के तहत लाया जाना चाहिए. आयोग ने रिपोर्ट में कहा कि बीसीसीआई के कामकाज का विश्लेषण भी दिखाता है कि सरकार का उसके क्रियाकलापों व कामकाज पर नियंत्रण है.

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें: राहुल गांधी बोले- 15 सालों में सिंगापुर की तरह विकसित होगा अमेठी

रिपोर्ट में कहा गया कि भारत की विदेश नीति के अनुरूप बीसीसीआई दक्षिण अफ्रीका की रंगभेदी परंपराओं के कारण इस देश के किसी खिलाड़ी को मान्यता नहीं देता और तनावपूर्ण अंतरराष्ट्रीय संबंधों को देखते हुए भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैचों को सरकार की मंजूरी की अनुमति होती है. ये स्थितियां बीसीसीआई को शासन का अंग बनाती हैं. साथ ही रिपोर्ट में कहा गया है कि बीसीसीआई को उसके एकाधिकार वाले चरित्र व कामकाज की लोक प्रकृति के कारण निजी संस्था माना जाता है , फिर भी उसे लोक प्राधिकार मानकर आरटीआई कानून के दायरे में लाया जा सकता है. (इनपुट भाषा से) 
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement