NDTV Khabar

इंदौर में भय्यूजी महाराज के अंतिम दर्शन के लिए उमड़ी भीड़, बेटी कुहू देंगी मुखाग्नि

आध्यात्मिक धर्मगुरु भय्यूजी महाराज का शव आज इंदौर में उनके घर पहुंचा. उनकी मौत से पूरा परिवार शोक में डूबा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इंदौर में भय्यूजी महाराज के अंतिम दर्शन के लिए उमड़ी भीड़, बेटी कुहू देंगी मुखाग्नि

आध्यात्मिक धर्मगुरु भय्यूजी महाराज का शव इंदौर पहुंचा

खास बातें

  1. भय्यूजी महाराज का शव इंदौर में उनके घर पहुंचा
  2. भय्यूजी महाराज ने बुधवार को खुद को गोली मारकर खुदकुशी की थी
  3. उनकी मौत से पूरा परिवार शोक में डूबा है
नई दिल्ली:

आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज का शव आज इंदौर में उनके घर पहुंचा. उनकी मौत से पूरा परिवार शोक में डूबा है. भय्यूजी महाराज ने बुधवार को खुद को गोली मारकर खुदकुशी की थी. अभी पता नहीं चल सका है कि भय्यूजी ने ये कदम किन हालातों में उठाया लेकिन ऐसा बताया जा रहा है कि पारिवारिक कलह के चलते उन्होंने ये कदम उठाया. एक सुसाइड नोट भी सामने आया, जिसमें लिखा था कि वो काफ़ी तनाव में थे. भय्यूजी महाराज धर्मगुरु होने से साथ राजनीतिक गलियारे में भी गहरी पैठ रखते थे. भय्यूजी महाराज का बुधवार दोपहर बाद अंतिम संस्कार होगा. उनके पार्थिव देह को अंतिम दर्शन के लिए इंदौर के सूर्योदय आश्रम में रखा गया है. भय्यूजी को मुखाग्नि उनकी बेटी कुहू देगी.

आपको बता दें कि भय्यूजी महाराज ने मंगलवार को खंडवा रोड स्थित आवास पर खुद को गोली मारकर आत्महत्या की थी. इंदौर के बॉम्बे अस्पताल में उनकी मौत की पुष्टि की थी. बताया जा रहा है कि भय्यूजी महाराज ने लाइसेंसी रिवॉल्वर से अपने सिर में गोली मारी. गोली की आवाज सुनने के बाद उनके आवास में मौजूद लोग उनके कमरे की ओर दौड़े फिर घायल अवस्था में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया. भय्यूजी महाराज के मौत के बाद पुलिस को उनका एक सुसाइट नोट मिला. सुसाइड नोट में लिखी चंद लाइनों से ही भय्यूजी महाराज यह बता गए कि वह कितने तनाव में थे.


नरेंद्र मोदी और अण्णा हजारे का अनशन तुड़वाने में अहम भूमिका निभाने वाले भय्यूजी महाराज के बारे में 10 बड़ी बातें

पुलिस को मिले भय्यूजी महाराज के सुसाइट नोट में लिखा गया, ‘पारिवारिक जिम्मेदारियां को संभालने के लिए किसी को वहां होना चाहिए. मैं बेहद परेशानी में हूं और तनाव के साथ जा रहा हूं.’ मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह ने अभी हाल ही में उनको राज्यमंत्री का दर्जा दिया था. भय्यूजी महाराज के मौत पर शिवराज सिंह ने गहरा शोक जताया था. सीएम शिवराज सिंह के अलावा बीजेपी और कांग्रेसी नेताओं ने भी उनके मौत पर शोक जताया.

suicide note of bhaiyyuji maharaj


आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज के निधन पर CM शिवराज सहित इन बड़े नेताओं ने जताया शोक

टिप्पणियां

भय्यूजी महाराज उस समय चर्चा में आये थे जब अन्ना आंदोलन के समय उन्होंने सरकार के साथ बातचीत में बड़ी भूमिका निभाई थी. उस आंदोलन के समय शरद यादव ने भय्यू जी महाराज की आलोचना भी की थी. भय्यू जी महाराज के भक्तों में कई नामी-गिरामी की हस्तियां शामिल थीं. वह पहले फैशन डिजाइनर थे बाद में अध्यात्म की ओर मुड़ गए भय्यू महाराज को मॉडर्न और राष्ट्रीय संत माना जाता था. उन्होंने करीब 49 साल की उम्र में दूसरी शादी की थी. उन्होंने पहली पत्नी की मौत होने के बाद बेटी कुहू और मां का ख्याल रखने के लिए ही ये शादी की थी. उनकी पहली पत्नी माधवी का दो साल पहले निधन हो चुका है. पहली शादी से उनकी एक बेटी कुहू है, जो पुणे में रहकर पढ़ाई कर रही है.

VIDEO: आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज ने खुद को गोली मारी
इंदौर के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) अजय कुमार शर्मा ने इस बात की पुष्टि कर बताया कि भय्यूजी महाराज का उपचार के दौरान अस्पताल में निधन हो गया है. 



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement