NDTV Khabar

BHU में मुस्लिम शिक्षक के नियुक्ति के विरोध में छात्र, 12 दिनों से पठन-पाठन ठप

सहायक प्रोफेसर फिरोज खान का कहना है, "मेरे पिता रमजान खान ने संस्कृत में शास्त्री की उपाधि ली है. उन्हीं की प्रेरणा से मैंने संस्कृत का अध्ययन शुरू किया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वाराणसी:

BHU स्थित संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के साहित्य विभाग में मुस्लिम शिक्षक की नियुक्ति मामले पर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. इस मामले को लेकर पिछले 12 दिनों से पठन-पाठन पूरी तरह ठप है. सूत्रों के अनुसार, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में पिछले 12 दिनों से पठन-पाठन पूरी तरह से ठप है और छात्र धरने पर बैठे हुए हैं. यूनिवर्सिटी प्रशासन और प्रदर्शनकारी छात्रों के बीच कई चक्र की बातचीत असफल हो चुकी है.

धरने पर बैठे छात्र ढोल-मजीरे के साथ रघुपति राघव राजा राम का भजन कर रहे हैं. भजन के बीच-बीच में वे वीसी के खिलाफ नारेबाजी भी कर रहे हैं. धरने की अगुवाई कर रहे शोध छात्र चक्रपाणि ओझा के मुताबिक, "यह विरोध फिरोज खान (बीएचयू के प्रोफेसर) का नहीं, बल्कि धर्म विज्ञान संकाय में एक गैर हिंदू की नियुक्ति का है. अगर यही नियुक्ती विवि के किसी अन्य संकाय में संस्कृत अध्यापक के रूप में होती तो विरोध नहीं होता. यह समझने की जरूरत है कि संस्कृत विद्या कोई भी किसी भी धर्म का व्यक्ति पढ़ और पढ़ा सकता है, लेकिन धर्म विज्ञान की बात जब कोई दूसरे धर्म का व्यक्ति करें तो विश्वसनीयता नहीं रह जाती."

BHU के संस्कृत संकाय में एक असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति पर बवाल, छात्र बैठे धरने पर


इस बीच, सहायक प्रोफेसर फिरोज खान का कहना है, "मेरे पिता रमजान खान ने संस्कृत में शास्त्री की उपाधि ली है. उन्हीं की प्रेरणा से मैंने संस्कृत का अध्ययन शुरू किया. मैंने दूसरी कक्षा से संस्कृत की शिक्षा लेनी शुरू की. संस्कृत से मैंने JRF किया, लेकिन कभी भी मुस्लिम होने के नाते कोई परेशानी नहीं हुई. मगर नियुक्ति को लेकर चल रहे आंदोलन से मैं हतोत्साहित हूं."

गौरतलब है कि विवि ने नियुक्ति प्रक्रिया को पूरी तरह पारदर्शी बताते हुए सहायक प्रोफेसर पद पर फिरोज खान की नियुक्ति को सही ठहराया है. कुलपति प्रो़ राकेश भटनागर ने कहा, "विश्वविद्यालय धर्म, जाति, संप्रदाय, लिंग आदि के भेदभाव से ऊपर उठकर राष्ट्र निर्माण के लिए सभी को अध्ययन एवं अध्यापन के समान अवसर उपलब्ध कराने को प्रतिबद्घ है."

टिप्पणियां

संस्कृत विभाग के प्रोफेसर राम नारायण दुबे ने कहा, "यह बात गलत है कि अध्यापक भी उनके (प्रदर्शनकारी छात्र) साथ हैं. छात्र नियमों का उलंघन कर रहे हैं. कोई भी नियुक्ति यूजीसी के गाइडलाइन के अनुसार ही हुई होगी."


VIDEO: BHU की डिप्टी चीफ प्रॉक्टर को RSS का झंडा उतरवाना पड़ा महंगा



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... प्रियंका चोपड़ा ने नीले कोट-पैंट में भारत में मारी एंट्री, VIP नहीं रेगुलर गेट से आईं बाहर- देखें Video

Advertisement