बिहार चुनाव: शिवानंद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछा- क्या आपको हार का अहसास हो गया है?

Bihar Election 2020: आरजेडी के नेता शिवानंद तिवारी ने कहा- प्रधानमंत्री जी की भाषा बदल गई है, अब वे भारत माता और जय श्री राम के सहारे चुनाव की वैतरणी पार करना चाहते हैं, यही उनका ब्रह्मास्त्र है

बिहार चुनाव: शिवानंद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछा- क्या आपको हार का अहसास हो गया है?

राष्ट्रीय जनता दल के नेता शिवानंद तिवारी ने कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी को बिहार के चुनाव में हार का एहसास हो गया है.

पटना:

Bihar Election 2020: राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के वरिष्ठ नेता और पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी (Shivanand Tivary) ने कहा है कि प्रधानमंत्री जी को बिहार के चुनाव में हार का एहसास हो गया लगता है. इसलिए उनकी भाषा बदल गई है. अब वे भारत माता और जय श्री राम के सहारे चुनाव की वैतरणी पार करना चाहते हैं. यही उनका ब्रह्मास्त्र है.

एक बयान में शिवानंद तिवारी ने कहा कि पिछले छह वर्षों से केंद्र में प्रचंड बहुमत के साथ उनकी सरकार है. देश के अधिकांश प्रांतों में प्रधानमंत्री जी की पार्टी की ही सरकार है. लेकिन आज भी सकारात्मक मुद्दों पर चुनाव जीत पाने का आत्मविश्वास वे अपने में पैदा नहीं कर पाए हैं. लेकिन अब बहुत विलंब हो चुका है. बिहार के लोगों ने एक भ्रष्ट और अनैतिक सरकार से मुक्ति पाने का मन बना लिया है.

तिवारी ने कहा है कि प्रधानमंत्री जी जब भारत माता की बात करते हैं तो उसमें भारत माता की संतानों का कोई स्थान नहीं होता है. हमारी भारत माता के 135 करोड़ संतान हैं. आज वे संतान गरीबी, बेरोजगारी, महंगाई, भ्रष्टाचार और गैर बराबरी से त्रस्त हैं. उनको इन समस्याओं से मुक्ति दिलाने के लिए  प्रधानमंत्री जी क्या कर रहे हैं, कभी इसका खुलासा वे नहीं करते हैं. अपने मन की सुनाते हैं! लेकिन भारत माता की संतानों के मन की बात कभी नहीं सुनते हैं. बिल्कुल प्रवचनी अंदाज में एकतरफा संवाद में वो विश्वास करते हैं. 


"जंगलराज के साथी चाहते हैं आप 'भारत माता की जय' व 'जय श्री राम'  ना बोलें" : PM मोदी का वार

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


शिवानंद तिवारी ने कहा कि बिहार का यह चुनाव प्रधानमंत्री जी के लिए भी एक चेतावनी है. बहुत हो गई जुमलेबाजी. 2014 के लोकसभा चुनाव अभियान में आपने जो रोजगार का, किसानों की आमदनी दोगुनी करने का, अच्छे दिन का जो वायदा किया था उसको जमीन पर उतारिए या बोरिया-बिस्तर समेटिए.