बिहार में नीतीश की सभा के दौरान फेंके गए प्‍याज, सीएम बोले-खूब फेंको, फेंकते रहो

नीतीश ने अपने भाषण में महागठबंधन के सीएम पद के उम्‍मीदवार तेजस्‍वी यादवपर निशाना साधा. नीतीश ने तेजस्‍वी के पिता लालू यादव और मां राबड़ी देवी पर बतौर सीएम 15 साल के कार्यकाल के दौरान बिहार को बरबाद करने का आरोप भी लगाया.

खास बातें

  • भाषण के दौरान नीतीश कुमार की ओर फेंकी गई प्‍याज
  • प्‍याज फेंकने वाले को पकड़ लिया गया, लेकिन नीतीश ने जाने दिया
  • भाषण ने नीतीश ने तेजस्‍वी के साथ लालू-राबड़ी पर भी साधा निशाना
मधुबनी:

Bihar Assembly Elections 2020: बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) आज जब मधुबनी (Bihar's Madhubani) में प्रचार कर रहे थे तो मंच पर प्‍याज फेंके गए. इसके बाद नीतीश के सुरक्षाकर्मियों ने 'ढाल बनकर' उन्‍हें कवर किया और सीएम ने अपना भाषण जारी रखा. बिहार में दूसरे चरण की वोटिंग के बीच मुख्यमंत्री नीतीश तीसरे चरण के चुनाव के लिए मधुबनी की विधानसभा सीटों पर प्रचार कर रहे हैं. मधुबनी के हरलाखी में आयोजित जनसभा में जब नीतीश नौकरियों की बात कर रहे थे उसी दौरान भीड़ से किसी ने उन पर प्याज फेंकी. इसपर सीएम नीतीश मंच से ही नाराज हो गए और बोलने लगे- खूब फेंको, फेंकते रहो, इसका कोई असर नहीं पड़ेगा.' जब प्‍याज फेंकने वाले को भीड़ ने पकड़ लिया तो सीएम ने कहा, 'उसे जाने दीजिए, उस पर कोई ध्‍यान देने की जरूरत नहीं है.'

मतदान के बाद मुख्यमंत्री पर बरसे चिराग पासवान, कहा- नीतीश अब कभी नहीं बनेंगे CM

नीतीश ने अपने भाषण में विपक्ष के नेता और महागठबंधन के सीएम पद के उम्‍मीदवार तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) पर निशाना साधा. नीतीश ने तेजस्‍वी के पिता लालू यादव (Lalu Yadav) और मां राबड़ी देवी (Rabri Devi) पर बतौर सीएम 15 साल के कार्यकाल के दौरान बिहार को बरबाद करने का आरोप भी लगाया. सीएम ने कहा, 'तेजस्‍वी 10 लाख सरकारी नौकरियों का वादा कैसे कर सकते हैं जब लालू यादव अपने 15 साल के आरजेडी के शासन में लोगों को नौकरी नहीं दे पाए. हमारे शासन की छह लाख नौकरियों की तुलना में उन्‍होंने 15 साल में केवल 95 हजार नौकरियां दीं.'


नीतीश राज में लेबर कमाई, युवा पढ़ाई और बीमार दवाई के लिए बाहर जाने को मजबूर : तेजस्‍वी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि 69 वर्ष के नीतीश इन चुनावों में महागठबंधन की ओर से कठिन चुनौती का सामना कर रहे हैं. नीतीश बिहार में बतौर सीएम लगातार चौथे कार्यकाल के लिए मैदान में हैं लेकिन उन्‍हें सत्‍ता विरोधी रुझान का सामना करना पड़ा रहा है. रैलियों के दौरान सीएम और उनके मंत्रियों को लोगों की नाराजगी नजर आई.