कृषि बिल पारित होने के दौरान RS उप सभापति हरिवंश के साथ विपक्ष के बर्ताव पर नीतीश खफा, कही यह बात..

नीतीश ने कहा, ‘‘हम लोगों ने 2006 में ही एपीएमसी एक्ट को समाप्त कर दिया था. उस समय भी यहां RJD सहित अन्य विरोधी दल खूब हंगामा कर रहे थे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘जो कुछ भी कल राज्यसभा में हुआ, वह बहुत ही बुरा और खराब हुआ है.’’

कृषि बिल पारित होने के दौरान RS उप सभापति हरिवंश के साथ विपक्ष के बर्ताव पर नीतीश खफा, कही यह बात..

नीतीश कुमार ने कहा, विपक्ष के व्‍यवहार ने बिहार की प्रतिष्‍ठा को चोट पहुंचाई है

खास बातें

  • कहा, विपक्ष ने बिहार की प्रतिष्‍ठा को चोट पहुंचाई
  • राज्‍य के लोग इसका जवाब देंगे
  • राज्‍यसभा में रविवार को पास हुए कृषि बिल
पटना :

बिहार में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के नेताओं ने कहा कि कृषि विधेयकों (Farm bills) के राज्यसभा में पारित होने के दौरान उप सभापति हरिवंश (Rajya Sabha Deputy Chairman Harivansh) के साथ विपक्ष के बर्ताव ने बिहार (Bihar) की प्रतिष्ठा को ‘‘चोट'' पहुंचायी है और राज्य के लोग इसका जवाब देंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बिहार में 14,260 करोड़ रुपये की लागत से 350 KM लंबी नौ राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का शिलान्यास किया. इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राज्‍य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने कहा कि जो कुछ कल राज्यसभा में हुआ वह बहुत ही गलत हुआ और उसकी जितनी निंदा की जाए कम है.

रबी फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य को कैबिनेट कमेटी ने मंजूरी दी

नीतीश ने कहा, ‘‘हम लोगों ने 2006 में ही एपीएमसी एक्ट को समाप्त कर दिया था. उस समय भी यहां RJD सहित अन्य विरोधी दल खूब हंगामा कर रहे थे.'' उन्होंने कहा, ‘‘जो कुछ भी कल राज्यसभा में हुआ, वह बहुत ही बुरा और खराब हुआ है.'' इससे पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने कहा, ‘‘राज्यसभा के उपसभपति के साथ सदन में जो अमर्यादित घटना हुई, उसने पूरे बिहार की अस्मिता को ठेस पहुंचाई है.विपक्ष ने लोकतंत्र के मंदिर में जिस तरह का अमर्यादित व्यवहार किया है, वह निंदनीय है. इससे बिहार के सभी लोग आहत हैं.विपक्ष के बर्ताव का बिहार की जनता करारा जवाब देगी.'' 

बढ़ते कोरोना मामलों के बीच खुला ताजमहल, दीदार के लिए पहुंचे लोगों ने कहा- वायरस के साथ रहने..

गौरतलब है कि विपक्ष के भारी हंगामे के बीच कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा) विधेयक-2020, कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 रविवार को राज्यसभा में पारित हो गए थे. इस दौरान दो विधेयकों को पारित कराने पर जोर देने पर विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया था. तृणमूल कांग्रेस सदस्यों के नेतृत्व में कुछ विपक्षी सदस्य आसन के बिल्कुल पास आ गए. राज्यसभा में रविवार को हुए हंगामे की गूंज सोमवार को भी सुनाई पड़ी और विपक्ष के आठ सदस्यों को सत्र के शेष समय के लिए निलंबित (Suspend) कर दिया गया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कृषि कानून पर पीएम मोदी का विपक्ष पर पलटवार



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)