NDTV Khabar

बिहार कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी की हो सकती है छुट्टी! राहुल से बोले नाराज विधायक RJD का साथ छोड़ो

वहीं अध्यक्ष अशोक चौधरी ने ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के नेताओं पर पूरे विभाजन की कहानी की आड़ में उन्हें हटाने की साजिश रचने का आरोप लगाया.

311 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी की हो सकती है छुट्टी! राहुल से बोले नाराज विधायक RJD का साथ छोड़ो

राहुल गांधी के साथ अशोक चौधरी

खास बातें

  1. अशोक चौधरी पर पार्टी तोड़ने का आरोप लगाया है
  2. अशोक चौधरी ने खुद को हटाने की साजिश की बात कही
  3. विधायकों ने राहुल गांधी को RJD से नाता तोड़ने को कहा
पटना: बिहार कांग्रेस में जारी उठापटक के बीच प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी की छुट्टी हो सकती है. कांग्रेस विधायकों ने पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से मिलकर अशोक चौधरी पर पार्टी तोड़ने का आरोप लगाया है. वहीं अध्यक्ष अशोक चौधरी ने ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के नेताओं पर पूरे विभाजन की कहानी की आड़ में उन्हें हटाने की साजिश रचने का आरोप लगाया.

राहुल गांधी से बोले बिहार कांग्रेस के नाराज विधायक - लालू यादव का साथ छोड़िए
दरअसल, बिहार कांग्रेस विधायक गुरुवार को दिल्ली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मिले और राज्य में जारी नेतृत्व संकट को सुलझाने की अपील की. विधायकों ने राहुल गांधी से 2019 लोकसभा चुनाव के लिए आरजेडी के साथ गठबंधन पर भी जल्द फ़ैसला करने को कहा. सूत्रों के मुताबिक़- कांग्रेस विधायकों ने राहुल गांधी से आरजेडी के साथ गठबंधन ख़त्म करने की अपील की. इस बैठक से अशोक चौधरी के अलावा कई कांग्रेसी विधायक भी ग़ायब रहे, जिन्हें राहुल गांधी ने बुलाया था.

यह भी पढ़ें: भ्रष्टाचार का मामला : लालू और तेजस्वी यादव को सीबीआई ने पूछताछ के लिए तलब किया

चौधरी का कहना है कि यह पार्टी विधायकों के टूटने को खबर उन्हें हटाने के लिए ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के कुछ नेताओं ने बिहार कांग्रेस में दूसरे दल से आए नेताओं के साथ मिलकर रची है.अशोक का कहना है कि उनके पिता ने 50 वर्षों तक पार्टी की सेवा की और वे खुद 25 सालों से पार्टी में सक्रिय हैं, तब उन पर शक करना क्या लाज़िमी है? हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया कि पार्टी और गांधी परिवार के प्रति उनकी निष्ठा रही है इसलिए राहुल गांधी उनके भविष्य पर कोई भी निर्णय ले सकते हैं.

बिहार में जब अशोक चौधरी अध्यक्ष बने तब राज्य विधानसभा में विधायकों की संख्या चार से 27 हुई. वहीं विधान परिषद में शून्य से 6 विधान पार्षद हुए.  साल 2015 के विधानसभा चुनाव में जब लालू यादव 25 सीट देने से ज़्यादा देने के लिए तैयार नहीं थे तब नीतीश कुमार के साथ तालमेल कर 40 सीटें लीं. नीतीश के साथ मधुर संबंधों के कारण अशोक चोधरी हमेशा पार्टी के अंदर अपने विरोधियों के निशाने पर रहे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement