बिहार के डिप्टी सीएम बोले- जिनके अवैध कारोबार पर असर पड़ा केवल वही करते हैं नोटबंदी का विरोध

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने नोटबंदी को लेकर ट्विटर पर ट्वीट किया है.

बिहार के डिप्टी सीएम बोले- जिनके अवैध कारोबार पर असर पड़ा केवल वही करते हैं नोटबंदी का विरोध

सुशील कुमार मोदी (फाइल फोटो)

खास बातें

  • नोटबंदी का विरोध करने वालों पर सुशील मोदी ने साधा निशाना
  • कहा- जिनके अवैध कारोबार पर असर पड़ा केवल वही करते हैं नोटबंदी का विरोध
  • 'देश में 3.38 लाख, बिहार में लगभग 6000 कंपनियों का निबंधन रद्द किया गया'
बिहार:

डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने नोटबंदी को लेकर ट्विटर पर ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा, 'नोटबंदी के बाद देश में 3.38 लाख और बिहार में लगभग 6 हजार कंपनियों का निबंधन रद्द किया गया है. जिसमें बड़ी संख्या में शेल-फर्जी कंपनियां थीं. यही कारण है कि नोटबंदी का विरोध वही लोग करते हैं जिनका अवैध कारोबार और ब्लैक मनी का ट्रांजेक्शन प्रभावित हुआ है.' उन्होंने कहा, 'भारत ईज ऑफ डुइंग बिजनेस में वर्ष 2014 में जहां दुनिया के 190 देशों में 142वें स्थान पर था. वहीं 2019 में 63वें स्थान पर पहुंच गया है. पीएम नरेंद्र मोदी का सपना है कि भारत को दुनिया के 50 वैसे देशों की सूची में शामिल किया जाए जहां व्यापार करना सबसे ज्यादा सुगम है.'

महाराष्ट्र के राजनीतिक घटनाक्रम से क्‍या बिहार में बीजेपी लेगी सबक?

सुशील मोदी ने यह भी कहा, 'वर्षों से बंद पड़ी कंपनी में कालाधन निवेश कर जमीन, प्रॉपर्टी खरीद लेना, उसके डायरेक्टर को हटाकर खुद मालिक बन जाना. फिर कौड़ी के भाव शेयर खरीद लेना. बिहार का IRCTC घोटाला इन्हीं फर्जी कंपनियों के फर्जीवाड़ा का जीता जागता सबूत है. टिस्को के गेस्ट हाउस की खरीद भी एक दूसरा उदाहरण है.'

सुशील मोदी ने कहा, 'बिहार सरकार CSR ट्रस्ट फंड की स्थापना करने जा रही है. जिसमें बड़ी कंपनियों को फंड के लिए एप्रोच किए जाने के बाद तथा फंड को ट्रस्ट में स्थानांतरित करने के पश्चात ट्रस्ट गाइडलाइंस के अनुसार, फंड का इस्तेमाल सामाजिक कार्यों में होगा.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बिहार विधानसभा में भी गरजा महाराष्ट्र का राजनीतिक घटनाक्रम, सुशील मोदी को इशारा कर बोले तेजस्वी- ये अंधेरे वाली सरकार

उन्होंने कहा, 'बिहार सरकार ने निर्णय लिया है कि GST में नई निबंधित कंपनियों का भौतिक सत्यापन किया जाएगा. 66 परिसर के भौतिक सत्यापन में 8 फर्जी पाये गये हैं. साथ ही जियो टैगिंग व आधार नंबर को अनिवार्य करने का निर्णय लिया गया है.'