Bihar Poll of Exit Polls: 'तेजस्वी यादव नीत महागठबंधन बिहार में रह सकता है आगे...

Bihar poll of exit polls : बिहार में विधानसभा चुनाव के तीनों चरणों का मतदान खत्म हो चुका है. 10 मई को मतगणना के बाद साफ होगा कि नीतीश लगातार चौथी बार मुख्यमंत्री बनेंगे या महागठबंधन सत्ता में आएगा.

नई दिल्ली:

Poll of Exit Polls 2020: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections 2020) के तीसरे चरण का मतदान खत्म होने के बाद एग्जिट पोल (Exit Polls) आ चुका है. पोल ऑफ पोल्स के अनुसार, बिहार (Bihar) में कांटे की टक्कर में तेजस्वी यादव की अगुवाई वाला राजद का महागठबंधन भाजपा-जदयू के मुकाबले आगे रह सकता है. अलग-अलग न्यूज चैनलों की तरफ से जारी किए गए एग्जिट पोल्स (Exit Polls) को मिलाकर NDTV ने 'पोल ऑफ एग्जिट पोल्स' (Poll of Exit Polls) जारी किया. एग्जिट पोल का पोल ऑफ पोल्स करने से पता चल रहा है कि तेजस्वी यादव नीत महागठबंधन को सबसे ज्यादा 128 सीटें, भाजपा-जदयू गठबंधन को 99, एलजेपी को 6 और अन्य को 10 सीटें मिल सकती हैं. बिहार की 243 सीटों में बहुमत का आंकड़ा 122 है.

यह भी पढ़ें- Bihar Poll of Exit Polls: तेजस्वी यादव नीत महागठबंधन बिहार में रह सकता है आगे...

टाइम्स नाउ-सी वोटर के सर्वे के अनुसार भाजपा-जदयू गठबंधन को 116 सीटें मिलने और महागठबंधन को 120 सीटें मिलने के आसार दिख रहे हैं. अन्य को सात सीटें मिल सकती हैं. रिपब्लिक टीवी - जन की बात के पोल में महागठबंधन को बहुमत मिलता दिख रहा है. इसमें बीजेपी के गठबंधन को 91 से 117 सीटें और महागठबंधन को 118-138 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं. अन्य को 7-14 सीटें मिल सकती हैं.

चाणक्य ने तेजस्वी नीत गठबंधन को 180 सीट देकर एकतरफा जीत बता रही है, वहीं एनडीए को 55 पर समेटा है. एलजेपी व अन्य को एक भी सीट नहीं है. वहीं, दैनिक भास्कर ने एनडीए को 120 से 127, गठबंधन को 71-81, एलजेपी को 12 से 23 और अन्य को 19 से 27 सीट मिल सकती हैं.

इंडिया टुडे- एक्सिस माय इंडिया ने एनडीए को 69 से 91, महागठबंधन को 139-161, एलजेपी को 3 से 5 व अन्य को 6 से 10 सीटें मिल सकती हैं. न्यूज एक्स-डीवीरिसर्च ने एनडीए को 110-117, महागठबंधन को 108-123, एलजेपी 4-10, अन्य को 8-23 सीटें मिल सकती हैं.

यह भी पढ़ें- क्या तेजस्वी यादव ने खींच दी नरेंद्र मोदी और नीतीश के आगे लंबी लकीर? या बाकी है अग्निपरीक्षा?

एनडीटीवी ने बिहार चुनाव के लिए आए चार एक्जिट पोल्स चाणक्या, दैनिक भास्कर, रिपब्लिक टीवी - जन की बात, इंडिया टुडे-एक्सिस माय इंडिया, न्यूज एक्स डीवीरिसर्च और टाइम्स नाओ - सी वोटर का औसत निकालकर पोल ऑफ एक्जिट पोल जारी किया है.पोल ऑफ एक्जिट पोल में महागठबंधन को सर्वाधिक 128 सीटें मिल रही हैं. वहीं, एनडीए को 99, एलजेपी को 6 और अन्य को 10 सीटें मिल सकती हैं. पोल ऑफ एक्जिट पोल्स के स्रोत स्थानीय और राष्ट्रीय चैनल के हैं.

तीसरे चरण में करीब 55 फीसदी मतदान

बिहार की 243 सदस्यीय विधानसभा के चुनाव के अंतिम चरण में 15 जिलों के 78 सीटों पर शनिवार को मतदान हुआ. इस चरण में करीब 2.34 करोड़ मतदाता थे, जिनमें से 55.22 फीसदी ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. पिछली बार तीसरे चरण में 56.66 फीसदी वोट हुआ था. मतदान खत्म होते ही 1204 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला ईवीएम (EVM)  में कैद हो गया. तीसरे चरण में बिहार विधानसभा अध्यक्ष और राज्य के 12 मंत्री भी चुनाव मैदान में थे. 

पहले दो चरणों में भी 50 फीसदी से ज्यादा मतदान

दूसरे चरण में 17 जिलों की 94 विधानसभा सीटों पर 53.51 फीसदी वोटिंग हुई थी. इस चरण में राजद नेता और महागठबंधन के मुख्यमंत्री पद के प्रत्याशी तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav), उनके बड़े भाई तेजप्रताप यादव के अलावा एनडीए (NDA)सरकार के चार मंत्री भी उम्मीदवार थे. इससे पहले 28 अक्टूबर को हुए प्रथम चरण के मतदान में राज्य की 71 विधानसभा सीटों पर 55.69 फीसदी लोगों ने मतदान किया. 10 नवंबर को मतगणना होगी.

यह भी पढ़ें- Bihar Election 2020 Exit Polls : बिहार में विधानसभा चुनाव के लिए तीनों चरणों का मतदान पूरा

बेरोजगारी और विकास के मुद्दे पर लड़ा गया चुनाव

बिहार में इस बार सत्तारूढ़ एनडीए (NDA) और राजद (RJD) के नेतृत्व वाले महागठबंधन के बीच मुकाबला था. एनडीए में इस बार जीतन राम मांझी की पार्टी हम  और मुकेश साहनी की वीआईपी पार्टी भी थी. जबकि महागठबंधन में कांग्रेस (Congress) के अलावा वामपंथी दल शामिल थे. महागठबंधन ने जहां बिहार में बेरोजगारी, सरकारी भर्ती पर रोक, आंगनवाड़ी और अन्य कार्यकर्ताओं के कम मानदेय, प्रवासी मजदूरों की स्थिति जैसे मुद्दों को जोर-शोर से उठाया.

प्रधानमंत्री ने नीतीश के लिए खुलकर समर्थन मांगा

एनडीए ने 15 साल में किए गए विकास कार्यों, शिक्षा-स्वास्थ्य की बेहतर सुविधाओं, बिजली-पानी, सड़क की बेहतर स्थिति बताकर जनता से वोट मांगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime minister Narendra Modi) ने स्वयं 12 रैलियां कर जंगलराज को लेकर मतदाताओं को आगाह किया औऱ डबल इंजन की सरकार को फिर चुनने की अपील की.  उन्होंने सोशल मीडिया पर चार पेज का पत्र जारी कर कहा था कि बिहार के विकास के लिए उन्हें नीतीश कुमार की जरूरत है.

दस लाख नौकरी बनाम मुफ्त वैक्सीन 

चुनाव प्रचार के दौरान राजद का दस लाख सरकारी नौकरी (Government job) देने का वादा छाया रहा. युवाओं से जुड़े ऐसे मुद्दों को लेकर तेजस्वी की रैली में भारी भीड़ भी देखी गई. वहीं बीजेपी अपने संकल्प पत्र में 19 लाख रोजगार देने और कोरोना की मुफ्त वैक्सीन (Free Vaccine) देने का वादा कर सुर्खियों में आ गई. ये दोनों मुद्दे खूब उछले.

युवा तेजस्वी और चिराग के निशाने पर रहे नीतीश कुमार

बिहार में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (Tejashi yadav) और लोजपा नेता चिराग पासवान (Chirag Paswan) के सीधे निशाने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रहे. लोजपा ने चुनाव के ठीक पहले एनडीए से अलग होकर नीतीश के खिलाफ मोर्चा खोला, जबकि बीजेपी के प्रति नरम रुख अपनाया. वहीं तेजस्वी ने भी इसे युवा बनाम बुजुर्ग की लड़ाई बनाने की पुरजोर कोशिश की. तीसरे चरण की आखिरी रैली में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के अंतिम चुनाव वाला बयान देकर भावनात्मक कार्ड खेला, लेकिन तेजस्वी और चिराग ने इसे भी हथियार बनाया. तेजस्वी ने चुनाव के दौरान ताबड़तोड़ 247 रैलियां और चार रोड शो किए.

रिपब्लिhक - जन की बात के अनुसार NDA को 91-117 जबकि महागठबंधन को 138 सीटें
Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com