NDTV Khabar

तेजस्वी यादव के 'जय श्रीराम' वाले बयान पर नीतीश कुमार का वार, मुझे धर्मनिरपेक्षता का पाठ न पढ़ाएं

नीतीश कुमार ने कहा कि जो किया बिहार के लिए किया. अब राज्य और केंद्र में एक ही सरकार होगी.मैंने पैसा बनाने के लिए राजनीति नहीं की.

1.2K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
तेजस्वी यादव के 'जय श्रीराम' वाले बयान पर नीतीश कुमार का वार, मुझे धर्मनिरपेक्षता का पाठ न पढ़ाएं

नीतीश कुमार ने दिया तेजस्वी यादव के हमले का जवाब

खास बातें

  1. हे राम से जय श्रीराम पर पहुंच गए नीतीश : तेजस्वी
  2. मुझे मजबूर किया गया तो आइना दिखाऊंगा : नीतीश
  3. बिहार विधानसभा में नीतीश कुमार ने हासिल किया विश्वासमत
पटना: बिहार में एनडीए की सरकार बन गई है. विश्वासमत के दौरान तेजस्वी यादव के हमलों का नीतीश कुमार ने जवाब दिया. उन्होंने कहा कि जो किया बिहार के लिए किया. अब राज्य और केंद्र में एक ही सरकार होगी.मैंने पैसा बनाने के लिए राजनीति नहीं की. मुझे धर्मनिरपेक्षता का पाठ न पढ़ाएं. मुझे मजबूर किया गया तो उन्हें आइना दिखाएंगे.ये लोग अहंकार और भ्रम में जीने वाले लोग हैं. इससे पहले तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर 41 मिनट तक हमला किया. उन्होंने कहा कि आज बिहार का युवा उदास हो गया है. मुझे बहाना बनाकर फंसाया गया. आरजेडी ने जेडीयू का वजूद बचाया था. छवि बचाने के लिए ये सब ढकोसला किया किया गया. हम लोग इतने मुर्ख नहीं हैं कि समझ न सकें कि ये लोग क्या कर रहे हैं. नीतीश ने पूरे बिहार को धोखा दिया है. हिम्मत थी तो मुझे बर्खास्त करते. नीतीश अब हे राम से जय श्रीराम हो गए हैं.

पढ़ें: लालू यादव के परिवार की मुश्किलें बढ़ीं, केस दर्ज, पूरे मामले को 12 प्वाइंट्स में जानें

तेजस्वी ने कहा कि नीतीश ने केवल अपनी छवि बचाने के लिए ढकोसला किया. उन्होंने सवालिया लहजे में पूछा कि यदि बीजेपी के साथ ही आपको जाना था तो चार साल क्‍यों बरबाद किए. इस बीच राजद नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि नीतीश कुमार अवसरवादी राजनीति कर रहे हैं. हमने नीतीश कुमार को पहचानने में भूल की.

लालू की पार्टी में भी उठे बगावती सुर, विधायक महेश्वर यादव ने कहा, 'तेजस्वी को इस्तीफा दे देना चाहिए था'

इन आरोपों पर बीजेपी के नेता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि लालू और तेजस्वी तो आरोप लगाएंगे ही. अगर 3 महीने से हो रहा था तो लालू जी को क्यों नहीं पता चला. पहले से कोई प्लॉट नहीं लिखा जा रहा था. ये भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ लड़ाई का नतीजा है. ये नए दौर का बिहार है, यहां केंद्र और राज्य में एक जैसी सरकार है.




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement