NDTV Khabar

बिहार में JDU-RJD महागठबंधन टूटने से काफी तकलीफ हुई : शरद यादव

जेडीयू और बीजेपी के साथ आने से एनडीए के कुछ घटक दलों में तो नाराज़गी है ही, इधर जेडीयू में भी मनमुटाव बना हुआ है

46 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार में JDU-RJD महागठबंधन टूटने से काफी तकलीफ हुई : शरद यादव

शरद यादव ने कहा- JDU-RJD गठबंधन टूटने का अफसोस

खास बातें

  1. बीजेपी का हिस्सा नहीं बनेंगे शरद : आरजेडी
  2. पार्टी के बड़े नेता हैं शरद : केसी त्यागी
  3. अली अनवर ने किया शरद यादव के ट्वीट का समर्थन
नई दिल्ली: जनता दल-यूनाइटेड (जेडीयू) के वरिष्ठ नेता शरद यादव का कहना है कि ''बिहार में महागठबंधन टूटने से मुझे काफी तकलीफ हुई है. महागठबंधन बनाने के लिए नीतीश, लालू और मैंने काफी मेहनत की थी. जनता का विश्वास किसी भी सरकार के लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है.''

एनडीटीवी से बातचीत में शरद यादव ने उक्त बात कही. उनसे जब पूछा गया कि बीजेपी से गठबंधन करने से पहले क्या आपकी राय ली गई थी?  इस पर उन्होंने कहा कि ''इस सवाल पर कुछ भी कहना मेरे लिए ठीक नहीं होगा.'' सांसद वीरेंद्र कुमार और अली अनवर की भी नीतीश कुमार से नाराजगी के सवाल पर उन्होंने कहा कि ''जो हालात हैं उसको लेकर मेरे मन में वेदना है.''

शरद यादव से जब एनडीटीवी ने पूछा कि क्या आपने आगे के लिए कुछ सोचा है? तो उन्होंने कोई साफ उत्तर न देकर सिर्फ इतना कहा कि ''मैं इस बारे में अभी कुछ भी नहीं बोलूंगा.''  

जेडीयू के वरिष्ठ नेता और पूर्व में एनडीए के संयोजक रहे शरद यादव लगातार अपनी नाराज़गी ज़ाहिर कर रहे हैं. आज भी उन्होंने कहा कि वह आरजेडी-जेडीयू गठबंधन टूटने से नाराज़ हैं. रविवार को उन्होंने ट्वीट कर मोदी सरकार पर सवाल उठाए. उधर, लालू यादव का दावा है कि शरद यादव उनके साथ हैं. ऐसे में राजनीतिक गलियारों में ऐसी अटकलें लगाई जा रही है कि शरद यादव नीतीश का साथ छोड़ कर लालू से हाथ मिला सकते हैं.

पढ़ें: लालू का दावा - भाजपा के साथ नहीं जा सकते शरद यादव

शरद यादव के अलावा जेडीयू नेता एमपी वीरेंद्र कुमार और अली अनवर भी नीतीश कुमार के फैसले को लेकर नाराज बताए जाते हैं. सूत्रों के मुताबिक अरुण जेटली समेत बीजेपी के कुछ अन्य वरिष्ठ नेता शरद यादव से मिल चुके हैं और उन्हें मनाने की कोशिश जारी हैं.

शरद यादव ने कहा है कि बिहार में जो भी हुआ है वो अप्रिय है. आरजेडी से जेडीयू के गठबंधन टूटने का मुझे अफ़सोस है. इस पर जेडीयू के नेता केसी त्यागी ने कहा कि शरद यादव हमारी पार्टी के बड़े नेता हैं. समय-समय पर वह राष्ट्रीय समस्याओं को लेकर अपने विचार व्यक्त करते रहे हैं. ये भी उसी की एक कड़ी है.

पढ़ें: नीतीश कुमार पर मौन शरद यादव ने मोदी सरकार पर किया यह हमला

VIDEO: बिहार में जो हुआ वो ठीक नहीं, बोले शरद यादव

आरजेडी नेता मनोज झा ने कहा कि नीतीश ने उपेक्षित और वंचित समाज के जनादेश पर डकैती की है. संघी, मनुवाद से मिलकर नीतीश की इस डकैती का शरद यादव हिस्सा नहीं बनेंगे. शरद के सामने तमाम लोगों को इकट्ठा करने की ऐतिहासिक ज़िम्मेदारी है. हमें 'वी द पीपल' को 'वी द संघी पीपल' में तब्दील होने से रोकना है.

रविवार को शरद यादव ने ट्वीट किया था कि ना तो विदेशों में छिपा काला धन आया, ना ही पनामा पेपर में जिनके नाम थे वो पकड़े गए. इस पर बीजेपी के नेता अश्विनी चौबे ने कहा कि पीएम मोदी ने कहा है तो स्वदेश, विदेश का काला धन वापस आएगा.शरद जी को इतनी जल्द सरकार पर ग़ुस्सा नहीं उतारना चाहिए. वहीं जेडीयू के नेता  अली अनवर ने कहा कि शरद यादव ने बिल्कुल ठीक कहा है. संसद में भी वह कहते रहे हैं. कानून बनाकर बेरोजगारी के लिए भत्ता दे केंद्र सरकार.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement