महात्मा गांधी के 'सत्याग्रह' को 'ड्रामा' कहकर BJP सांसद अनंत हेगड़े ने कराई फजीहत, पार्टी ने बिना शर्त माफी मांगने को कहा

नागरिकता कानून पर घिरी केंद्र सरकार की बजट सत्र के शुरुआत में ही फजीहत हो गई है. कर्नाटक से BJP सांसद अनंत हेगड़े ने महात्मा गांधी के सत्याग्रह को ड्रामा कह डाला.

महात्मा गांधी के 'सत्याग्रह' को 'ड्रामा' कहकर BJP सांसद अनंत हेगड़े ने कराई फजीहत, पार्टी ने बिना शर्त माफी मांगने को कहा

खास बातें

  • अनंत हेगड़े के बयान पर BJP की फजीहत
  • पार्टी ने बिना शर्त माफी मांगने को कहा
  • पहले भी दे चुके हैं विवादित बयान
नई दिल्ली:

नागरिकता कानून पर घिरी केंद्र सरकार की बजट सत्र के शुरुआत में ही फजीहत हो गई है. कर्नाटक से BJP सांसद अनंत हेगड़े ने एक कार्यक्रम में महात्मा गांधी के सत्याग्रह को ड्रामा कह डाला. इस पर बीजेपी पूरी तरह से बैकफुट पर है और आलाकमान ने अनंत हेगड़े से तुरंत माफी मांगने को कहा है. बीजेपी सांसद अनंत हेगड़े ने पूरे स्वतंत्रता आंदोलन को अंग्रेजों की सहमति और समर्थन के साथ स्टेज किया गया. साथ ही उन्होंने कहा, 'इनमें से किसी भी तथाकथित नेता को पुलिस ने नहीं पीटा. इनका स्वतंत्रता आंदोलन एक बड़ा ड्रामा था. इसका मंचन अंग्रेजों की मंजूरी के साथ किया गया. यह वास्तविक लड़ाई नहीं थी.' उन्होंने महात्मा गांधी की भूख हड़ताल और सत्याग्रह को भी 'ड्रामा' करार दे दिया. उनके बयान से आलाकमान नाराज है और अब सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि उनको कड़ी फटकार लगाई गई है साथ ही इस बयान पर बिना शर्त माफ़ी मांगने को कहा गया.  पार्टी की ओर से साफ कहा गया कि इस तरह के बयान को स्वीकार नही हैं. 

जामिया में फायरिंग पर बोले BJP सांसद- हमारे कम उम्र के भ्रमित बच्चे चला रहे हैं गोली, विपक्ष ने दे रखी है मुस्लिमों को सुरक्षा

बता दें, अनंत कुमार हेगड़े अपने बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहे हैं. कुछ महीने पहले उन्होंने एक बयान देकर अपनी ही पार्टी भाजपा के लिए मुसिबत खड़ी कर दी थी. उन्होंने दावा किया था कि महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस ने रात में जिस तरह एनसीपी नेता अजित पवार को मिलाकर सुबह राज्य में सरकार बनाई थी, उसके पीछे 40 हजार करोड़ रुपया था. उन्होंने कहा था कि फडणवीस ने राज्य के खजाने से चालीस हजार करोड़ रुपया का निकाल कर केंद्र को दे दिया. बीजेपी सांसद ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस 80 घंटे सीएम रहे थे और इतने ही घंटे में उन्होंने यह काम किया.

योगी के मंत्री के बिगड़े बोल, कहा- देश विरोधियों को 'कुत्ते की मौत' मारेंगे, जब चाहेंगे बदल देंगे AMU का नाम

साथ ही हेगड़े ने कहा था, 'आपको पता है कि हमारे आदमी 80 घंटे के लिए महाराष्ट्र में सीएम बना था. इसके बाद फडणवीस ने इस्तीफा दे दिया. उन्होंने यह ड्रामा क्यों किया था? क्या हमें पता नहीं था कि हमारे पास बहुमत नहीं है फिर भी वह मुख्यमंत्री बने. यह सवाल हर कोई पूछता है. मुख्यमंत्री के पास करीब 40 हजार करोड़ रुपये थे. अगर Congress-NCP और शिवसेना  सत्ता में आ जाते तो वे इन पैसों का गलत इस्तेमाल करते. यह सब केंद्र का पैसा था और इसका इस्तेमाल राज्य के विकास में नहीं होता. यह सब कुछ बहुत पहले तय कर लिया गया था. इसलिए यह ड्रामा रचा गया. फडणवीस ने शपथ लेते ही 15 घंटे के अंदर सारा पैसा केंद्र को भेज दिया'.

खबरों की खबर: चुनाव के दंगल में क्यों फिसल रही जुबान​

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com