Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

बिहार से राज्यसभा उपचुनाव में निर्विरोध निर्वाचित हुए भाजपा प्रत्याशी सतीश चंद्र दुबे

बिहार विधानसभा सचिव बटेसर नाथ पांडेय ने बुधवार को बताया कि दोपहर तीन बजे तक नामांकन पत्र वापस लेने की समय सीमा खत्म होने के बाद सतीश चंद्र दुबे को निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया गया और उन्हें प्रमाणपत्र सौंप दिया गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार से राज्यसभा उपचुनाव में निर्विरोध निर्वाचित हुए भाजपा प्रत्याशी सतीश चंद्र दुबे

राज्य सभा (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. बिहार से राज्यसभा की एक सीट के लिए हुआ था उपचुनाव
  2. इस सीट से तीन साल पहले चुने गए राम जेठमलानी का पिछले महीने हो गया था निधन
  3. पिछली लोकसभा में बिहार के वाल्मीकि नगर से लोकसभा संसद रह चुके हैं दुबे
पटना:

बिहार से राज्यसभा की एक सीट के लिए हुए उपचुनाव में राजग प्रत्याशी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता सतीश चंद्र दुबे बुधवार को निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिए गए. बता दें कि इस सीट से तीन साल पहले चुने गए प्रसिद्ध वकील और पूर्व केंद्रीय मंत्री राम जेठमलानी का हाल में निधन हो गया था. पिछली लोकसभा में बिहार के वाल्मीकि नगर संसदीय क्षेत्र से भाजपा सांसद रहे दुबे ने चार अक्तूबर को अपना नामंकन पत्र दाखिल किया था. बिहार विधानसभा सचिव बटेसर नाथ पांडेय ने बुधवार को बताया कि दोपहर तीन बजे तक नामांकन पत्र वापस लेने की समय सीमा खत्म होने के बाद सतीश चंद्र दुबे को निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया गया और उन्हें प्रमाणपत्र सौंप दिया गया.

साबिर अली के बाद, बिहार में फिर विवादों में बीजेपी


वहीं राम जेठमलानी को 2016 में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जदयू, जो उस समय राजद और कांग्रेस के साथ प्रदेश में सत्तासीन थी, के कोटे की सीट पर चुना गया था. जेठमलानी चारा घोटाला मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद के वकील रहे थे. राजग प्रत्याशी की जीत पक्की होने के चलते बिहार में विपक्षी महागठबंधन में शामिल राजद ने राज्यसभा की इस सीट के लिए अपने किसी उम्मीदवार को मैदान में नहीं उतारा था. हालांकि शुरुआत में ऐसी अटकलें लगायी जा रही थीं कि इस सीट से जदयू अपना उम्मीदवार खड़ा करना चाहेगी.

टिप्पणियां

Video: रावण दहन कार्यक्रम से नदारद रहे बीजेपी नेता



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... 15 दस्तावेज देकर भी खुद को भारतीय साबित नहीं कर पाई असम की जाबेदा, कानूनी लड़ाई में खो बैठी सब कुछ

Advertisement