MP Govt Crisis: मध्य प्रदेश में BJP ने राज्यपाल के अभिभाषण से पहले कांग्रेस सरकार के शक्ति परीक्षण की मांग की

मध्यप्रदेश में कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के विधानसभा से त्यागपत्र देने के बाद प्रदेश भाजपा ने 16 मार्च को सरकार का शक्ति परीक्षण कराने की मांग की है.

MP Govt Crisis: मध्य प्रदेश में BJP ने राज्यपाल के अभिभाषण से पहले कांग्रेस सरकार के शक्ति परीक्षण की मांग की

विधानसभा का सत्र 16 मार्च से शुरू हो रहा है.

खास बातें

  • विधानसभा का सत्र 16 मार्च से शुरू हो रहा है.
  • कांग्रेस के विधायकों के त्यागपत्र देने से कमलनाथ सरकार संकट में आ गई है.
  • विधानसभा अध्यक्ष द्वारा विधायकों के त्यागपत्र फिलहाल स्वीकार नहीं किए गए
नई दिल्ली:

मध्यप्रदेश में कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के विधानसभा से त्यागपत्र देने के बाद प्रदेश भाजपा ने 16 मार्च को सरकार का शक्ति परीक्षण कराने की मांग की है. विधानसभा का सत्र 16 मार्च से ही शुरू हो रहा है. कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के त्यागपत्र देने से प्रदेश में 15 माह पुरानी कमलनाथ सरकार गहरे संकट में आ गई है. मंगलवार को पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस पार्टी छोड़ने के बाद उनके खेमे के इन विधायकों ने इस्तीफे भेज दिए थे. 

हालांकि विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति द्वारा इन विधायकों के त्यागपत्र फिलहाल स्वीकार नहीं किए गए हैं. भाजपा विधायक दल के सचेतक नरोत्तम मिश्रा ने यहां गुरुवार को संवाददातओं से कहा, "कांग्रेस सरकार अल्पमत में आ गई है. इसलिए हम राज्यपाल महोदय और विधानसभा अध्यक्ष से 16 मार्च को विधानसभा सत्र के शुरू होने पर, सरकार का शक्ति परीक्षण कराने की मांग करेंगे."

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के इन 22 विधायकों ने अपने त्यागपत्र राज्यपाल और विधानसभा अध्यक्ष को भेज दिए हैं. अब यह उन पर है कि वे इस पर निर्णय लें. पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस सरकार अपना बहुमत खो चुकी है.

228 सदस्य मध्यप्रदेश विधानसभा में कांग्रेस के विधायकों की संख्या 114 थी तथा कांग्रेस सरकार को चार निर्दलीय, दो बसपा और एक सपा विधायक का समर्थन हासिल था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कांग्रेस के 22 विधायकों के त्यागपत्र यदि मंजूर हो जाते हैं तो विधानसभा में कुल विधायकों की संख्या घटकर 206 हो जाएगी और बहुमत का आंकड़ा 104 हो जाएगा. कांग्रेस के पास अपने 92 विधायक बचेंगे, जबकि भाजपा के विधायकों की संख्या 107 है.

वीडियो: खबरों की खबर: कैसे टूटा ज्योतिरादित्य सिंधिया का सब्र ?



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)