Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

जंतर-मंतर पर शांति मार्च में शामिल हुए BJP नेता कपिल मिश्रा, मंच और भाषण से रहे दूर-दूर 

मिश्रा ने सुबह ट्विटर के माध्यम से लोगों से अनुरोध किया था कि वे जंतर मंतर पर होने जा रहे शांति मार्च में भाग लेने के लिए आएं.

जंतर-मंतर पर शांति मार्च में शामिल हुए BJP नेता कपिल मिश्रा, मंच और भाषण से रहे दूर-दूर 

कपिल मिश्रा ने जंतर-मंतर पर शांति मार्च में लिया भाग (फाइल फोटो)

खास बातें

  • भड़काऊ भाषण देने के आरोपी कपिल मिश्रा ने शांति मार्च में भाग लिया
  • मंच के नीचे भीड़ के साथ बैठे
  • मीडिया के सवालों का भी नहीं दिया जवाब
नई दिल्ली:

उत्तर-पूर्व दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा के बाद स्थिति सामान्य हो रही है, ऐसे में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता कपिल मिश्रा सहित कई लोगों ने शनिवार को जंतर-मंतर पर इकट्ठा होकर शांति मार्च में भाग लिया. पूर्वोत्तर दिल्ली में हुई हिंसा के खिलाफ जंतर-मंतर में 'दिल्ली पीस फोरम' ने मार्च का आयोजन किया था. जंतर-मंतर में सैकड़ों की तादात में तिरंगा झंडा लेकर लोग इकट्ठा हुए और 'जय श्री राम' व 'भारत माता की जय' के नारे लगाए. भाजपा नेता कपिल मिश्रा भी यहां मौजूद थे. हालांकि, उन्हें मंच से नीचे और लोगों की भीड़ के पास बैठाया गया था. वे ना तो मंच पर गए और ना ही उन्होंने भाषण दिया. 

BJP नेता कपिल मिश्रा बोले- जिन्होंने देश को बांटने की बात कही, उनसे सवाल नहीं पूछे जा रहे

मिश्रा ने सुबह ट्विटर के माध्यम से लोगों से अनुरोध किया था कि वे जंतर मंतर पर होने जा रहे शांति मार्च में भाग लेने के लिए आएं. कपिल ने इस दौरान मीडिया से भी बात नहीं की और सवालों के जवाब देना भी उचित नहीं समझा. जैसे ही मिश्रा जंतर-मंतर पहुंचे उनके समर्थकों ने 'देखो देखो कौन आया, शेर आया-शेर आया' के नारे लगाए. हिंसा के दौरान जिन लोगों के घर-दुकाने जल गईं थी, उन्होंने भी शांति मार्च में भाग लिया. 

ताहिर हुसैन के खिलाफ दर्ज हुई FIR तो बॉलीवुड डायरेक्टर बोले- कपिल मिश्रा और अनुराग ठाकुर का क्या हुआ...

हालांकि, शांति मार्च में कुछ तख्तियों पर लिखा था- 'रतन लाल क्यों मारा गया', 'मंदिर क्यों जलाए जा रहे हैं', 'स्कूलों को आग के हवाले क्यों किया जा रहा है' और 'सीएए के विरोध के नाम पर आतंक को नहीं सहेंगे.' कुछ पूर्व सैनिक भी इस दौरान मंच पर आए, जिन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून भारतीय नागरिकों के खिलाफ नहीं है.

वीडियो: दिल्ली हिंसा: अपने ही देश में बन गए शरणार्थी

    



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)