जानिए 25 दिसंबर के बजाय एक हफ्ते देरी से क्‍यों हुई बीजेपी की परिवर्तन रैली

जानिए 25 दिसंबर के बजाय एक हफ्ते देरी से क्‍यों हुई बीजेपी की परिवर्तन रैली

25 दिसंबर को अटल बिहारी वाजपेयी के जन्‍मदिन यूपी में परिवर्तन रैलियों का समापन होना था

पिछले कई महीनों से चल रही परिवर्तन रैलियों का आज लखनऊ में पीएम नरेद्र मोदी की रैली के साथ समापन हो गया. दरअसल इस कार्यक्रम का समापन 25 दिसंबर को अटल बिहारी वाजपेयी के जन्‍मदिन के साथ होना था ताकि राज्‍य के सभी क्षेत्रों से होकर परिवर्तन रैली का यहां समापन हो सके.

लेकिन 30 दिसंबर को नोटबंदी की मियाद खत्‍म होने जा रही थी. इसलिए सूत्रों के मुताबिक बीजेपी में अंदरखाने यह तय हुआ कि उसके बाद ही रैली को रखा जाए ताकि नोटबंदी के असर को भी इस रैली के जरिये देखा जा सके.

Newsbeep

अब 31 दिसंबर को प्रधानमंत्री के राष्‍ट्र के नाम संबोधन के बाद इस रैली के लखनऊ में आयोजन के साथ ही माना जा रहा है कि चुनाव में आचार संहिता लागू होने से पहले प्रधानमंत्री इस रैली के जरिये यूपी को कुछ सौगातें देकर चुनावी रणभेरी भी बजा सकते हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उल्‍लेखनीय है कि राज्‍य में बीजेपी के सभी 403 सीटों पर परिवर्तन यात्राएं आयोजित की. उसके साथ ही चार नवंबर से सहारनपुर से परिवर्तन रैलियों की शुरुआत हुई. उस रैली में संबोधन के साथ ही नरेंद्र मोदी ने इसका आगाज किया था.