बीजेपी-शिवसेना के बिगड़े रिश्तों का असर मुंबई मेयर के चुनावों पर भी पड़ सकता है, ऐसे समझें सियासी समीकरण

Mumbai Mayor 2019: महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन में टूट का असर 22 नवंबर को मुंबई मेयर के लिए होने वाले चुनाव पर भी पड़ सकता है.

बीजेपी-शिवसेना के बिगड़े रिश्तों का असर मुंबई मेयर के चुनावों पर भी पड़ सकता है, ऐसे समझें सियासी समीकरण

Mumbai Mayor Election: महादेश्वर का सितंबर में खत्म हो गया विधानसभा चुनावों की वजह से कार्यकाल नवंबर तक बढ़ा दिया गया था

खास बातें

  • क्या BMC में भी नजर आएगी बीजेपी शिवसेना के रिश्तों की खटास
  • 2017 में शिवसेना के 84 और बीजेपी 82 पार्षदों को मिली थी जीत
  • नवंबर में खत्म हो रहा है मेयर महादेश्वर का ढाई साल का कार्यकाल
मुंबई:

महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन में टूट का असर 22 नवंबर को मुंबई मेयर (Mumbai Mayor) के लिए होने वाले चुनाव पर भी पड़ सकता है. बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) के 2017 में हुए चुनावों में 227 सदस्यीय नगर निगम में शिवसेना के 84 पार्षद जीते थे, वहीं सहयोगी बीजेपी के 82 पार्षदों ने जीत हासिल की थी. तब भाजपा ने शिवसेना को समर्थन दिया था और विश्वनाथ महादेश्वर को मेयर चुना (Mumbai Mayor Election) गया. महादेश्वर का ढाई साल का कार्यकाल इस साल सितंबर में समाप्त हो गया लेकिन 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनावों को देखते हुए उनका कार्यकाल नवंबर तक बढ़ा दिया गया. 

शिवसेना ने BJP पर साधा निशाना, विधायकों की खरीद-फरोख़्त की कोशिश का लगाया आरोप

विधानसभा चुनाव के 24 अक्टूबर को आए परिणामों के बाद दोनों दलों के बीच दरार आ गई जहां शिवसेना मुख्यमंत्री पद को लेकर समान साझेदारी की मांग पर अड़ी हुई थी. शिवसेना के इस समय 94 पार्षद हैं जिनमें छह पार्षद महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना से आए थे.  भाजपा के 83, कांग्रेस के 28, एनसीपी के 8, समाजवादी पार्टी के 6, एमआईएम के 2 और मनसे का 1 पार्षद है. मेयर पद के चुनाव (Mayor Election 2019) के लिए बीजेपी के उम्मीदवार उतारने की संभावनाओं के सवाल पर पार्टी की मुंबई इकाई के अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढा ने कहा कि उसने अभी तक इस पर फैसला नहीं किया है. 

महाराष्ट्र के सियासी संग्राम के बीच संजय राउत का ट्वीट, लिखा- 'यारों नए मौसम ने एहसान किया....'

सपा के रईस शेख ने कहा कि उनकी पार्टी कांग्रेस के साथ बातचीत कर रही है और जल्द फैसला लिया जाएगा. RTI अर्जियों के माध्यम से देश के सबसे धनवान नगर निगम में अनेक घोटाले उजागर करने वाले कार्यकर्ता अनिल गलगली ने कहा कि इस समय बीजेपी का रुख अहम होगा जहां राज्यस्तर पर कांग्रेस-एनसीपी की शिवसेना के साथ बातचीत चल रही है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

महाराष्ट्र में सरकार गठन की कोशिशों के बीच रविवार को सोनिया गांधी से मिलेंगे NCP प्रमुख शरद पवार

उन्होंने कहा, ‘‘सबसे संभावित परिदृश्य में कांग्रेस और NCP विभिन्न समितियों में पद मांग सकते हैं, वहीं अगर बीजेपी उम्मीदवार खड़ा करने का मन बनाती है तो उसे नेता प्रतिपक्ष का पद मिल सकता है.'' राज्य शहरी विकास विभाग ने एक लॉटरी में तय किया है कि अगला मेयर सामान्य श्रेणी से होगा. हर ढाई साल में मेयर पद पर बारी-बारी से सामान्य और आरक्षित श्रेणी के नेता आरुढ़ होते हैं. 

Video: BMC से जुड़े ठेकेदारों पर आयकर विभाग के छापे