राजस्थान विधानसभा में अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ कल अविश्वास प्रस्ताव लाएगी BJP : नेता प्रतिपक्ष

Rajasthan crisis: राजस्‍थान विधानसभा का विधानसभा सत्र 14 अगस्‍त से प्रारंभ होने जा रहा है. राजस्थान विधानसभा में बीजेपी ने अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का ऐलान किया है. नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने यह घोषणा की.

जयपुर :

Rajasthan crisis: राजस्‍थान का विधानसभा सत्र (Special assembly session)14 अगस्‍त से प्रारंभ होने जा रहा है. राजस्थान विधानसभा में बीजेपी ने अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का ऐलान किया है. नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने (Gulab Chand Kataria) यह घोषणा की.राजस्थान विधानसभा में विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया ने कहा, हम अपने सहयोगी दलों के साथ कल विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव ला रहे हैं. एनडीटीवी से बातचीत में कटारिया ने कहा, हम अपनी रणनीति पर विचार कर रहे हैं. सचिन पायलट की घरवापसी से गहलोत सरकार (Ashok Gehlot government) पर आया संकट फिलहाल टलता नजर आ रहा है लेकिन कटारिया ने कहा कि राजस्‍थान की कांग्रेस सरकार पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएगी.

अशोक गहलोत बोले - कांग्रेस की लड़ाई सोनिया-राहुल के नेतृत्व में लोकतंत्र बचाने की है

वैसे, विधानसभा सत्र के पहले शाम 5 बजे अशोक गहलोत के सरकारी आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक आयोजित होगी, इसमें सचिन पायलट और उनके ख़ेमे के विधायकों को भी विधायक दल की बैठक में बुलाया गया है. बैठक में सचिन पॉयलट और अशोक गहलोत की होगी मुलाकात होगी. केसी वेणुगोपाल की मौजूदगी में विधायक दल की बैठक आयोजित होगी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कोरोना महामारी के बीच कल से आयोजित होने जा रहे विधानसभा सत्र के लिए रणनीति बनाने के लिए वसुंधरा राजे और अन्‍य शीर्ष बीजेपी नेताओं ने आज बैठक की. जुलाई माह में अशोक गहलोत सरकार पर मंडराए संकट के बादल के चलते बीजेपी अपने लिए लाभ की स्थिति देख रही थी लेकिन राहुल गांधी की बागी तेवर अपनाए सचिन पायलट के साथ बैठक के बाद कांग्रेस ने संकट को टाल दिया है.

गौरतलब है कि सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों के बागी तेवरों के कारण राजस्‍थान में सियासी संकट पैदा हो गया था लेकिन करीब एक माह तक गतिरोध  के बाद इसी हफ्ते राहुल गांधी (Rahul Gandhi)  की पायलट के साथ हुई बैठक के बाद संकट टल गया था और कांग्रेस खेमे ने राहत की सांस ली थी.पूर्व में सचिन पायलट के खिलाफ काफी तल्‍ख कमेंट करने वाले सीएम गहलोत ने अब अपने तेवर नरम कर लिए हैं.मुख्यमंत्री ने गुरुवार को एक ट्वीट में लिखा, 'कांग्रेस की लड़ाई तो सोनिया गांधी जी और राहुल गांधी जी के नेतृत्व में डेमोक्रेसी को बचाने की है. पिछले एक माह में कांग्रेस पार्टी में आपस में जो भी नाइत्तेफ़ाकी हुई है, उसे देश के हित में, प्रदेश के हित में, प्रदेशवासियों के हित में और लोकतंत्र के हित में हमें फॉरगेट एन्ड फॉरगिव, आपस में भूलो और माफ करो और आगे बढ़ो की भावना के साथ डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई में लगना है.'