केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर को लेकर भाजपा जल्द ही ले सकती है कोई फैसला: सूत्र

अपने विदेशी दौरे से लौटने के बाद बाद ही भाजपा पहले अकबर से उनका स्पष्टीकरण मांगेगी.

केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर को लेकर भाजपा जल्द ही ले सकती है कोई फैसला: सूत्र

एमजे अकबर पर जल्द फैसला ले सकती है सरकार

नई दिल्ली:

केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर के इस्तीफे के लिए बढ़ रहे दबाव को देखते केंद्र सरकार और भाजपा जल्द ही कोई फैसला ले सकती है. सूत्रों के अनुसार इस पूरे मामले में भाजपा पहले केंद्रीय मंत्री से उनका पक्ष सुनना चाहती है. यह वजह है कि विदेश दौरे पर गए विदेश राज्यमंत्री एम जे अकबर को लेकर केंद्र सरकार अभी तक कुछ भी नहीं कह रही है. मिली जानकारी के अनुसार अपने विदेशी दौरे से लौटने के बाद बाद ही भाजपा पहले अकबर से उनका स्पष्टीकरण मांगेगी. इसके बाद यह फैसला किया जाएगा कि इस मामले में पार्टी और सरकार को आगे क्या कदम उठाने चाहिए.

यह भी पढ़ें: एमजे अकबर पर मोदी सरकार में खामोशी के बीच केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कही यह बात...

खास बात यह है कि विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर ने अभी तक खुदपर लग रहे आरोपों का कोई जवाब नहीं दिया है. एक तरफ भारतीय जनता पार्टी ने मामले में अब तक खामोशी अख्तियार कर रखी है वहीं पार्टी सूत्रों का कहना है कि उनके खिलाफ गंभीर आरोप हैं और लगता नहीं कि मंत्री के तौर पर वह लंबे समय तक पद पर रह पाएंगे. उन्होंने कहा कि अंतिम निर्णय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेना है. पार्टी के भीतर इस तरह की भी राय है कि चूंकि उनके खिलाफ कोई कानूनी मामला नहीं है और जो आरोप उनके खिलाफ लगे हैं, वो मंत्री बनने से बहुत पहले का है.

यह भी पढ़ें: #MeToo: मेरा अकबर महान! कारनामा ऐसा कि कायनात शरमा जाए

सोशल मीडिया पर मी टू अभियान के जोर पकड़ने के बीच पिछले कुछ दिनों में कई महिलाओं ने उनपर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं. भाजपा ने मामले में चुप्पी साध रखी है लेकिन अकबर के खिलाफ लगे आरोपों पर कोई रूख अपनाए बिना कुछ महिला मंत्रियों ने मी टू अभियान को अपना समर्थन दिया है. पार्टी के नेताओं का कहना है कि सबसे पहले अकबर को ही आरोपों पर जवाब देना है.

यह भी पढ़ें: अकबर की ख़बर रोको, आयकर छापे की लाओ, कुछ करो, जल्दी भटकाओ...

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

गौरतलब है कि भाजपा की सहयोगी शिवसेना ने कई महिला पत्रकारों द्वारा यौन शोषण के आरोप लगाने के बाद केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर को पद से हटाने की मांग की थी. शिवसेना ने अकबर पर लगे आरोपों की गहराई से जांच की मांग भी की. शिवसेना की प्रवक्ता मनीषा कयांदे ने कहा कि जहां तक मुझे पता है, पांच से छह महिला पेशेवरों ने एम जे अकबर के हाथों यौन उत्पीड़न का शिकार होने की खुलकर बात की है. घटनाओं के ब्यौरे चिंताजनक और गंभीर हैं. इसलिए मैं उन्हें तत्काल पद से हटाने की मांग करती हूं.

VIDEO: एमजे अकबर पर लगे संगीन आरोप.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बार बार ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ की बातें करते हैं. इसलिए अपनी छवि बनाए रखने के लिए मोदी को अकबर को उनके पद से हटा देना चाहिए. शिवसेना की विधान पार्षद ने कहा कि उनके खिलाफ लगे आरोपों की उचित जांच की जाए. अगर वह पाक-साफ साबित होते हैं तो उन्हें दोबारा कैबिनेट में जगह दी जा सकती है.(इनपुट भाषा से)