NDTV Khabar

अधिकारी को बल्ले से पीटने पर कैलाश विजयवर्गीय ने किया बेटे का बचाव, कहा- वह कच्चा खिलाड़ी है

पिछले सप्ताह आकाश विजयवर्गीय ने नगर निगम के अधिकारी को क्रिकेट के बैट के साथ पिटाई की थी. इसके बाद आकाश विजयवर्गीय को गिरफ्तार कर लिया गया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अधिकारी को बैट से पीटने के मामले में अपने बेटे आकाश विजयवर्गीय का बचाव किया है. उन्होंने कहा कि वह अभी 'कच्चा खिलाड़ी' है. साथ ही उन्होंने कहा कि यह बड़ा मामला था नहीं, इसे बड़ा बनाया गया है. बता दें, पिछले सप्ताह आकाश विजयवर्गीय ने नगर निगम के अधिकारी को क्रिकेट के बैट के साथ पिटाई की थी. इसके बाद आकाश विजयवर्गीय को गिरफ्तार कर लिया गया था. गिरफ्तारी के बाद भोपाल की विशेष कोर्ट ने उन्हें शनिवार को जमानत दी और रविवार सुबह उन्हें जेल से रिहा किया गया.

जेल से रिहा होने के बाद आकाश विजयवर्गीय का भव्य स्वागत किया गया था. घर पहुंचने के बाद उनके माथे पर टीका लगाया गया और मिठाई बांटकर खुशी मनाई गई. इतना ही नहीं, जमानत मिलने के बाद उनके समर्थकों ने इंदौर में भाजपा दफ्तर के बाहर फायरिंग करके भी जश्न मनाया था, जिस पर काफी विवाद हुआ. 

जमानत पर रिहा हुए आकाश विजयवर्गीय ने एनडीटीवी से कहा- मैं प्रार्थना करता हूं कि दोबारा बल्लेबाजी न करनी पड़े


इस पूरे मामले में पर कैलाश विजयवर्गीय ने अपने बेटे आकाश का बचाव करते हुए कहा, 'यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. मुझे लगता है कि दोनों तरफ से ही बदसलूकी हुई है. आकाश जी और नगर निगम कमिश्नर दोनों ही कच्चे खिलाड़ी हैं. यह बड़ा मुद्दा नहीं था, इसे बड़ा बनाया गया. मुझे लगता है कि अधिकारियों को अहंकारी नहीं होना चाहिए, उन्हें जनप्रतिनिधियों से बात करनी चाहिए. इस मामले में इसी चीज की कमी रही. यह सुनिश्चित करने के लिए कि यह फिर से न हो, दोनों को समझना चाहिए.'

आकाश विजयवर्गीय को जमानत मिलने की खुशी में समर्थकों ने BJP दफ्तर के बाहर की फायरिंग, एक नहीं, दो नहीं किए पूरे पांच फायर, देखें VIDEO

साथ ही उन्होंने कहा, 'मैं पार्षद, मेयर और विभाग के मंत्री रहा हूं, लेकिन हमने हम बारिश के दौरान किसी भी आवासीय भवन को ध्वस्त नहीं किया. मुझे नहीं पता कि आदेश सरकार द्वारा जारी किया गया था, अगर ऐसा नहीं हुआ था तो यह उनकी गलती है. यदि किसी भवन को ध्वस्त किया जा रहा है, तो उसमें रहने वालों के लिए एक 'धर्मशाला' में रहने की व्यवस्था की जाती है. नगर निगम ने बदसलूकी की. महिला स्टाफ और महिला पुलिस होनी चाहिए थी. यह अपरिपक्व था. ऐसा दोबारा नहीं होना चाहिए.'

(इनपुट- एएनआई)

टिप्पणियां

अधिकारी को बल्ले से पीटने वाले BJP विधायक आकाश विजयवर्गीय जमानत के बाद हुए रिहा, कहा- जेल में अच्छा समय बीता

Video: NDTV से बोले आकाश विजयवर्गीय- विकलांग महिला की टांग खींच रहा था निगम कर्मचारी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement