बोइंग ने कहा- भारत के वैमानिक उद्योग का परिवेश बढ़ाने में मददगार होगा ए-18 सुपर हॉर्नेट

कंपनी के अनुसार इस लड़ाकू विमान का उपयोग भारत अपने आधुनिक मध्यम लड़ाकू विमान कार्यक्रम में कर सकता है.

बोइंग ने कहा- भारत के वैमानिक उद्योग का परिवेश बढ़ाने में मददगार होगा ए-18 सुपर हॉर्नेट

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

अमेरिका की प्रमुख विमान कंपनी बोइंग ने मंगलवार को कहा कि उसका एफ / ए -18 सुपर हर्नोट लड़ाकू विमान से भारत को अपने वैमानिक उद्योग के मौजूदा परिवेश को विस्तृत करने में मदद मिल सकती है. कंपनी के अनुसार इस लड़ाकू विमान का उपयोग भारत अपने आधुनिक मध्यम लड़ाकू विमान कार्यक्रम में कर सकता है. बोइंग इंडिया के उपाध्यक्ष थॉम ब्रेकनरिज ने यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि बोइंग के मौजूदा एफ / ए -18 उत्पादन में 60000 लोगों को रोजगार मिला हुआ है और इसके लिए सामान व कल पुर्जों आदि की आपूर्ति में 800 इकाइयां जुड़ी हैं.

यह भी पढ़ें: इंजन फेल होने की वजह से अमेरिकी विमान की इमरजेंसी लैंडिंग, 1 घायल

कंपनी भारतीय वायुसेना के लिए लड़ाकू विमानों की आपूर्ति के लिए बोली लगाना चाहती है. गौरतलब है कि भारतीय वायुसेना के 110 लड़ाकू विमानों के ठेके को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने हाल ही में महिंद्रा डिफेंस सिस्टम तथा सार्वजनिक कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स ( एचयूएल ) से गठजोड़ किया है. यह पहल एफ / ए -18 सुपर हर्नोट लड़ाकू विमानों के भारत में उत्पादन के लिए की गई है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ब्रेकनरिज ने कहा कि सुपर होर्नेट ऐसा विमान है जिसमें निरंतर सुधार किया जाता रहा है ताकि यह भविष्य की चुनौतियों के लिए पहले से तैयर रहे. (इनपुट भाषा से)