NDTV Khabar

कोर्ट ने दवाओं की अवैध ऑनलाइन बिक्री को लेकर केंद्र और राज्य सरकार से पूछे सवाल

जनहित याचिका में यह दावा किया गया है कि आमतौर पर कालेज के छात्र-छात्रायें बिना डाक्टरी सलाह के आनलाइन दवायें मंगा लेते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कोर्ट ने दवाओं की अवैध ऑनलाइन बिक्री को लेकर केंद्र और राज्य सरकार से पूछे सवाल

कोर्ट ने दवाओं की ऑनलाइन बिक्री को लेकर केंद्र और राज्य सरकार से पूछे सवाल (प्रतीकात्मक फोटो)

मुंबई:

बंबई उच्च न्यायालय ने दवाओं की अवैध ऑनलाइन बिक्री पर चिंता जताते हुए महाराष्ट्र सरकार व केंद्र से कहा है कि वे इस बिक्री के नियमन के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी दें. मुख्य न्यायाधीश मंजुला चेलुर व न्यायाधीश एन एम जामदार की पीठ ने इसके साथ ही केंद्र से पूछा है कि उसने बिना पर्चे के दवाओं की बिक्री संबंधी आनलाइन विज्ञापनों को रोकने के लिए क्या कदम उठाए हैं.

एलर्जी होने पर खुद से दवाएं लेना पड़ सकता है भारी

अदालत ने इस संबंध में एक जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए उक्त निर्देश दिए. अदालत ने बिना डाक्टरी सलाह के दवाओं की आनलाइन बिक्री पर चिंता जताई और इसे गंभीर मुद्दा बताया.

टिप्पणियां

जनहित याचिका में यह दावा किया गया है कि आमतौर पर कालेज के छात्र-छात्रायें बिना डाक्टरी सलाह के आनलाइन दवायें मंगा लेते हैं. इसमें कहा गया है कि दवा और सौंदर्य प्रसाधन कानून 1940 और दवा एवं सौदर्य प्रसाधन नियम 1945 में उन कुछ दवाओं की आनलाइन बिक्री पर रोक है जिनमें डाक्टर की सलाह वाला दवा पर्चा होना अनिवार्य है.


VIDEO- मरीजों पर पड़ेगा जीएसटी का असर, दवाओं पर बढ़ेगा टैक्स

इस तरह की कुछ दवाओं में गर्भ-निरोधक और नींद की गोलियां तथा गर्भपात की गोलियों सहित कुछ अन्य दवाओं के लिये डाक्टरी सलाह को अनिवार्य बताया गया है.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement