जेल में गौतम नवलखा का चश्मा हुआ था चोरी, बॉम्बे HC ने कहा- जेल आधिकारियों को वर्कशॉप की जरूरत

नवलखा के परिजनों ने सोमवार को दावा किया था कि उनका चश्मा 27 नवंबर को तलोजा जेल के भीतर से चोरी हो गया था जहां नवलखा बंद हैं. उन्होंने कहा था कि जब उन्होंने नवलखा के लिए नया चश्मा भेजा तो जेल अधिकारियों ने उसे स्वीकार नहीं किया और वापस भेज दिया.

जेल में गौतम नवलखा का चश्मा हुआ था चोरी, बॉम्बे HC ने कहा-  जेल आधिकारियों को वर्कशॉप की जरूरत

नवलखा के परिवार का दावा- अधिकारियों ने लौटा दिया था नया चश्मा भी. (फाइल फोटो)

मुंबई:

बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने तलोजा जेल में बंद कार्यकर्ता गौतम नवलखा (Gautam Navlakha) का चश्मा कथित तौर पर चोरी होने के मामले पर मंगलवार को कहा कि मानवता सबसे महत्वपूर्ण है. इसके साथ ही अदालत ने जेल अधिकारियों को कैदियों की जरूरतों के बारे में संवेदनशील बनाने के लिए एक कार्यशाला आयोजित करने पर जोर दिया. नवलखा, एल्गार परिषद-माओवादी मामले में आरोपी हैं.

न्यायमूर्ति एस एस शिंदे और न्यायमूर्ति एम एस कार्णिक की एक खंडपीठ ने कहा कि उन्हें पता चला कि किस तरह जेल के भीतर से नवलखा का चश्मा चोरी हो गया और उनके परिजनों द्वारा कुरियर से भेजे गए नए चश्मों को जेल अधिकारियों ने लेने से मना कर दिया.

न्यायमूर्ति शिंदे ने कहा, 'मानवता सबसे महत्वपूर्ण है. इसके बाद कोई और चीज आती है. आज हमें नवलखा के चश्मे के बारे में पता चला. अब जेल अधिकारियों के लिए भी एक कार्यशाला आयोजित करने का समय आ गया है.' उन्होंने कहा, 'क्या इन छोटी-छोटी चीजों को भी देने से मना किया जा सकता है? यह मानवीय सोच है.'

नवलखा के परिजनों ने सोमवार को दावा किया था कि उनका चश्मा 27 नवंबर को तलोजा जेल के भीतर से चोरी हो गया था जहां नवलखा बंद हैं. उन्होंने कहा था कि जब उन्होंने नवलखा के लिए नया चश्मा भेजा तो जेल अधिकारियों ने उसे स्वीकार नहीं किया और वापस भेज दिया.

Video: मास्क न पहनने से नाराज सुप्रीम कोर्ट


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)