ब्राजील ने भारत से मांगा Hydroxychloroquine, कहा- ये हनुमान जी की 'संजीवनी बूटी' की तरह 

ब्राजील ने हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन की आपूर्ति की भारत से मांग करते हुए रामायण का जिक्र किया है. ब्राजील ने इस मदद की तुलना भगवान हनुमान द्वारा हिमालय से लाई गई संजीवनी से की है. 

ब्राजील ने भारत से मांगा Hydroxychloroquine, कहा- ये हनुमान जी की 'संजीवनी बूटी' की तरह 

नई दिल्ली:

पूरी दुनिया में कोरोनावायरस (Coronavirus) का संकट लगातार गहराता जा रहा है. पूरी दुनिया में कोरोनावायरस बीमारी से अब तक 75,000 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. इस बीच, भारत की तरफ से कोरोनावायरस से सर्वाधिक प्रभावित देशों को हरसंभव मदद का भरोसा दिया गया है. मलेरिया रोधी हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन (Hydroxychloroquine) के निर्यात को भी भारत ने मंगलवार को मंजूरी दे दी. इस दवा को कोरोना के इलाज में कारगर माना जा रहा है. ब्राजील ने हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन की आपूर्ति की भारत से मांग करते हुए रामायण का जिक्र किया है. ब्राजील ने इस मदद की तुलना भगवान हनुमान द्वारा हिमालय से लाई गई संजीवनी से की है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो ने कहा, "जिस तरह से हनुमान भगवान राम के भाई लक्ष्मण के प्राण बचाने के लिए हिमालय से संजीवनी लाए थे और यीशु ने बीमार लोगों को ठीक किया था, उसी तरह से भारत की ओर से यह मदद भी लोगों की जिंदगी बचाएगी. भारत और ब्राजील मिलकर इस वैश्विक महामारी से लड़ने में सक्षम होंगे."  

इससे पहले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो से टेलीफोन पर बातचीत की थी और दोनों नेताओं ने कोविड-19 वैश्विक महामारी के फैलने के मद्देनजर वैश्विक स्थिति पर चर्चा की. प्रधानमंत्री ने कोविड-19 के कारण ब्राजील में हुई लोगों की मौत पर संवेदना जताई. उन्होंने कहा कि इस समय हर भारतीय की प्रार्थना ब्राजील के लोगों के साथ है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस दौरान, प्रधानमंत्री ने इस मुश्किल घड़ी में ब्राजील के राष्ट्रपति को हर संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया था और सहमति जताई कि उनके अधिकारी कोविड-19 की स्थिति और इसके कारण उभरती चुनौतियों के संबंध में नियमित संपर्क में रहेंगे. 

वीडियो: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, "सरकारी खर्च में हो कटौती"