सालभर पहले जवान ने की थी खाने की शिकायत, अब BSF ने उठाया यह कदम

करीब एक साल पहले बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो डालकर दावा किया था कि जवानों को पानी वाली दाल और जली हुई रोटियां खिलायी जाती हैं.

सालभर पहले जवान ने की थी खाने की शिकायत, अब BSF ने उठाया यह कदम

तेज बहादुर यादव ने करीब साल भर पहले बीएसएफ के खाने की सोशल मीडिया पर शिकायत की थी. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

भोजन की गुणवत्ता को लेकर करीब सालभर पहले सवालों के घेरे में आए सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने अपने जवानों और अधिकारियों को परोसे जाने वाले खाने की गुणवत्ता एवं मात्रा के परीक्षण का काम डीआरडीओ को सौंपा है. उसने संभावित खामियों को दूर करने के उपाय भी सुझाए हैं.

यह भी पढ़ें : बीएसएफ जवान ने वीडियो के जरिये बयां किया दर्द, कहा - मैं रहूं या न रहूं, मेरी बात पहुंचा देना

करीब एक साल पहले बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो डालकर दावा किया था कि जवानों को पानी वाली दाल और जली हुई रोटियां खिलायी जाती हैं. बीएसएफ महानिदेशक केके शर्मा ने बताया कि एक संसदीय समिति की सिफारिश के बाद अपनी तरह का यह पहला कदम उठाया गया है. शर्मा ने कहा, 'हम बीएसएफ भोजनालयों में परोसे जाने वाले खाने की गुणवत्ता परखने के लिए रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की प्रयोगशाला से अध्ययन करवा रहे हैं. उसके विशेषज्ञ खाना पकाने वाले कर्मियों, इस इकाई को चलाने वालों तथा इस भोजन को खाने वालों से बातचीत कर रहे हैं.'

यह भी पढ़ें : BSF का जवान तेज बहादुर, कहा- 'मुझे मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है'

उन्होंने कहा, 'वैसे तो अंतिम रिपोर्ट का इंतजार है, लेकिन जो हमारी समझ में आया है वह यह है कि जवानों को परोसे जाने वाले खाने की गुणवत्ता एवं मात्रा संतोषजनक से कहीं अच्छी है.' डीआरडीओ की मैसूर प्रयोगशाला यह अध्ययन कर रही है. संसदीय समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों के कर्मियों को अच्छा भोजन प्रदान करना न केवल उन्हें स्वस्थ रखने बल्कि उनका मनोबल ऊंचा रखने के लिए भी जरूरी है. उसने उन्हें परोसे जाने वाले खाने की गुणवत्ता की परख के लिए उचित प्रणाली की सिफारिश की थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : BSF जवान तेज बहादुर के वीडियो से मची हलचल

शर्मा ने कहा कि जवान तेज बहादुर के खराब खाना परोसे जाने के दावे के बाद बीएसएफ ने आतंरिक जांच की और पाया कि खाने की गुणवत्ता एवं मात्रा कभी कोई मुद्दा ही नहीं रही.