'मजदूरों के साथ अमानवीय व्यवहार और अमीरों के लिए दयावान', औरंगाबाद रेल हादसे पर मायावती ने जताई नाराज

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकारें प्रदेश के प्रवासी मजदूरों की घर वापसी के लिये बेहतर व्यवस्था करें.

'मजदूरों के साथ अमानवीय व्यवहार और अमीरों के लिए दयावान', औरंगाबाद रेल हादसे पर मायावती ने जताई नाराज

गरीब मजदूरों के लिये कोई व्यवस्था नहीं कर रही सरकार: मायावती

लखनऊ:

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकारें प्रदेश के प्रवासी मजदूरों की घर वापसी के लिये बेहतर व्यवस्था करें. उन्होंने कहा कि एक तरफ तो कोचिंग में पढ़ने वाले अमीरों के छात्रों के लिये विशेष बसें और विदेशों में फंसे अमीर लोगों के लिये विशेष विमान भेजे जा रहे हैं, दूसरी तरफ गरीब मजदूर पैदल ही अपने घर वापस आ रहे हैं. उन्होंने शुक्रवार सुबह औरंगाबाद में मजदूरों के ट्रेन से कुचल जाने पर भी गहरा दुख व्यक्त किया. मायावती ने शुक्रवार को कहा, ‘‘इस बीमारी के दौरान जो सबसे ज्यादा दुखी नजर आ रहे हैं, वे गरीब मजदूर हैं. वे अपनी रोजी रोटी के लिये अपने घर छोड़कर दूसरे प्रदेशों में गये हुये थे. प्रवासी मजदूर बहुत ज्यादा दुखी नजर आ रहे हैं और उनके साथ केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार जो बर्ताव कर रही है वह बहुत गलत है. सरकार ने इन लोगों के भोजन की भी उचित व्यवस्था नहीं की है, जिसकी वजह से ये भूख से तड़प रहे हैं."


उन्होंने कहा, ''आज महाराष्ट्र के पास कई प्रवासी मजदूर हादसे में मारे गये. यह केंद्र और राज्य सरकार की लापरवाही और असंवेदनशीलता का नतीजा है. सरकारों को इन मजदूरों के परिजनों को आर्थिक मदद देनी चाहिए और उनके परिवार के किसी सदस्य को नौकरी दी जानी चाहिए." उन्होंने कहा, ''प्रवासी मजदूरों को रेल और बस से उनके घर पहुंचाना चाहिए. एक तरफ तो सरकार भूखे और लाचार लाखों प्रवासी मजदूरों से घोर अमानवीय व्यवहार करते हुये उनसे किराया भाड़ा वसूल कर रही है, लेकिन दूसरी तरफ अमीरों के लिये दयावान बनी हुई है.  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अमीरों के जो बच्चे कोचिंग सेंटर में पढ़ रहे थे, उनके लिये सरकार बसों का प्रबंध कर रही है और विदेशों में फंसे लोगों के लिये हवाई जहाज भी भेज रही है लेकिन गरीब मजदूरों के लिये कोई व्यवस्था नहीं कर रही."