NDTV Khabar

पीएम मोदी की केक वाली टिप्पणी पर मायावती ने कसा तंज, लिखा- देश संकटों से जूझ रहा है और...

बसपा की मुखिया मायावती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'साइज ऑफ द केक मैटर्स' वाली टिप्पणी पर तंज किया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम मोदी की केक वाली टिप्पणी पर मायावती ने कसा तंज, लिखा-  देश संकटों से जूझ रहा है और...

मायावती ने ट्विटर के माध्यम से पीएम मोदी पर हमला किया

खास बातें

  1. मायावती ने पीएम मोदी की टिप्पणी पर किया ट्वीट
  2. कहा- केक की बात करना पीएम की 'निरंकुशता' को जाहिर करता है
  3. चर्चा में रहा था पीएम मोदी का 'साइज ऑफ द केक मैटर्स' बयान
लखनऊ:

बसपा की मुखिया मायावती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'साइज ऑफ द केक मैटर्स' वाली टिप्पणी पर तंज करते हुए रविवार को कहा कि जब देश की एक विशाल आबादी बेरोजगारी और दूसरे संकटों से जूझ रही है तो ऐसे में केक की बात करना प्रधानमंत्री की 'निरंकुशता' को जाहिर करता है. मायावती ने ट्वीट कर कहा कि जब देश की अधिसंख्य आबादी जबरदस्त महंगाई, गरीबी, बेरोजगारी, बीमारी और अशिक्षा की समस्या से घिरकर रोजी-रोटी के लिए तरस रही है तो ऐसे में प्रधानमंत्री उनके लिए केक की बात कर रहे हैं. यह उनकी 'निरंकुशता' को जाहिर करता है. 

पूर्व PM मनमोहन सिंह ने भय की राजनीति को लेकर दिया बड़ा बयान, बोले- कहीं ऐसा न हो...

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में क्या देश उसी रास्ते पर चल रहा है जिस तरह फ्रांसीसी क्रांति के समय कहा गया था कि अगर लोगों के पास खाना नहीं है तो वे केक क्यों नहीं खाते. वास्तव में सरकार को जुमलेबाजी छोड़कर जनता के भले के लिए काम करना चाहिए.  


जल्द ही सिम कार्ड व आईएमईआई नंबर बदलने के बावजूद लग जाएगा चोरी के मोबाइल का पता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को वाराणसी में भाजपा के सदस्यता अभियान की शुरुआत करते हुए देश की अर्थव्यवस्था को पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने पर अपनी बात रखी थी. उन्होंने कहा था कि साइज ऑफ द केक मैटर्स, यानी जितना बड़ा केक होगा, उसका उतना ही बड़ा हिस्सा लोगों को मिलेगा. इसलिये हमने भारत की अर्थव्यवस्था को पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य तय किया है.

टिप्पणियां

कांग्रेस की मुंबई इकाई में कलह, संजय निरूपम ने मिलिंद देवड़ा पर साधा निशाना, बोले- पार्टी ऐसे 'कर्मठ' लोगों से...

पीएम मोदी ने कहा था कि गरीबी हमारे दिल-दिमाग में एक नियति बन गयी है. सत्यनारायण की कथा भी एक बेचारे गरीब ब्राह्मण से शुरू होती है. हमें इस सोच से बाहर निकलना चाहिये. इसलिये कल के बजट में देश पांच ट्रिलियन इकॉनॉमी को कैसे प्राप्त करेगा, उसकी दिशा दिखायी गई है. आने वाले 10 साल के विजन के साथ हम मैदान में उतरे हैं.   



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement