NDTV Khabar

BJP, RSS की लोगों को गुमराह करने की कोशिश के बावजूद बसपा मजबूत : मायावती

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पिछले चुनावों के साथ-साथ अपने जातिवादी, सांप्रदायिक एवं हिंसक राजनीतिक एजेंडे को लागू करने में आजकल सरकारी धन, सुविधा व शक्ति का भी खुलकर उपयोग कर रहा है.

2.5K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
BJP, RSS की लोगों को गुमराह करने की कोशिश के बावजूद बसपा मजबूत : मायावती

मायावती (फाइल फोटो)

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने शनिवार को कहा कि बसपा का मिशनरी मूवमेंट खासकर उत्‍तर प्रदेश में पहले की तरह ही काफी मजबूती से जड़ पकड़े हुये है लेकिन भारतीय जनता पार्टी एंड कंपनी एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लोग केवल लोगों को गुमराह करने के लिये अनेक प्रकार की अफवाहें फैलाने का काम करते रहते हैं. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पिछले चुनावों के साथ-साथ अपने जातिवादी, सांप्रदायिक एवं हिंसक राजनीतिक एजेंडे को लागू करने में आजकल सरकारी धन, सुविधा व शक्ति का भी खुलकर उपयोग कर रहा है और इस क्रम में खासकर बसपा को निशाना बनाने का काम किया जा रहा है.

बसपा सुप्रीमो ने आज पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ बैठक के बाद जारी बयान में कहा कि हर स्तर पर लोग पार्टी के मूवमेंट के साथ काफी मज़बूती से खड़े हैं और नेतृत्व के साथ कंधे से कंधा मिलाकर आत्म-सम्मान व स्वाभिमान के मूवमेंट को आगे बढ़ाने के साथ-साथ डॉ भीमराव अंबेडकर के ब्रहम वाक्य ''सत्‍ता की मास्टर चाबी प्राप्त करके अपना उद्धार स्वयं करने'' के प्रति तन, मन, धन से काम करते रहने के लिये कृत संकल्पित व लालायित भी हैं. इनके इस जोश व जज्बे में रत्‍ती भर भी कमी नहीं आई है .

मायावती ने कहा कि बसपा का मिशनरी मूवमेन्ट खासकर उत्‍तर प्रदेश में पहले की तरह ही काफी मजबूती से जड़ पकड़े हुये है और भाजपा एंड कंपनी एवं आरएसएस के लोग केवल लोगों को गुमराह करने के लिये अनेकों प्रकार की गलत अफवाहें फैलाने का काम करते रहते हैं.

उन्होंने कहा कि बीजेपी एंड कंपनी एवं आरएसएस आदि के लोग बसपा को ही असल खतरा व चैलेंज मानते हैं, जैसा कि वे पहले डॉ अंबेडकर को अपने रास्ते की रुकावट  मानते थे और ऐसे घोर जातिवादी तत्वों के केन्द्र व राज्यों की सत्‍ता में आ जाने पर देश की आम जनता को भी यह स्पष्ट होता जा रहा है कि इनकी नीति व कार्यक्रम देश व समाज को जोड़ने वाले नहीं बल्कि देश को तोड़ने वाले हैं. इसी का परिणाम है कि आज पूरे देश में लक्ष्य करके जातिवादी व साम्प्रदायिक हिंसा, तनाव व हत्याओं का एक खतरनाक वातावरण हर तरफ पैदा कर दिया गया है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement