Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पिता की मौत के बावजूद ड्यूटी निभाते रहे बजट से जुड़े अधिकारी कुलदीप शर्मा

कुलदीप शर्मा 26 जनवरी को बजट (Budget 2020) ड्यूटी पर थे. उसी दिन कुलदीप कुमार शर्मा के पिताजी की मौत हो गई, लेकिन उन्होंने तय किया कि वह अपने पिता की मौत पर घर जाने के बजाए बजट की छपाई के काम में ही लगे रहेंगे.

पिता की मौत के बावजूद ड्यूटी निभाते रहे बजट से जुड़े अधिकारी कुलदीप शर्मा

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  • पिता की मौत पर घर जाने के बजाए बजट की छपाई के काम में ही लगे रहे कुलदीप
  • कुलदीप शर्मा 26 जनवरी को बजट ड्यूटी पर थे
  • सी दिन कुलदीप कुमार शर्मा के पिताजी की मौत हो गई
नई दिल्ली:

कभी-कभी कोई सरकारी अधिकारी या कोई सामान्य सा दिखने वाला आदमी कर्तव्य परायणता और निष्ठा की ऐसी मिसाल कायम कर देता है, जिससे वो समाज के लिए अनुकरणीय बन जाता है. ऐसी ही एक मिसाल कायम की है बजट  (Budget 2020) छपाई से जुड़े डेप्यूटी मैनेजर कुलदीप कुमार शर्मा ने. कुलदीप शर्मा 26 जनवरी को बजट ड्यूटी पर थे. उसी दिन कुलदीप कुमार शर्मा के पिताजी की मौत हो गई, लेकिन उन्होंने तय किया कि वह अपने पिता की मौत पर घर जाने के बजाए बजट की छपाई के काम में ही लगे रहेंगे. उन्होंने अपने निजी नुकसान को पीछे छोड़ते हुए अपनी ड्यूटी को तरजीह दी.

बता दें, बजट की छपाई बेहद गोपनीय प्रक्रिया है. इसमें लगे लोगों को घर तक जाने की इजाजत नहीं होती है. सारे लोग एक तरह से दुनिया से कट जाते हैं और सिर्फ बजट की छपाई का काम करते हैं. यह सब सिर्फ इसलिए किया जाता है ताकि बजट में क्या होने वाला है, ये लीक ना हो. करीब 10 दिनों तक बजट की छपाई के काम के दौरान इसमें लगे किसी भी व्यक्ति को बाहर जाने की इजाजत नहीं होती है.

Budget 2020: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज पेश करेंगी बजट, जानिए देश के बहीखाते से जुड़ी हर बात

कुलदीप शर्मा इस बात को अच्छी तरह समझते हैं कि उनकी ड्यूटी कितनी अहम है और अगर वह अपनी ड्यूटी से हटते हैं तो पूरे देश पर इसका असर पड़ सकता है. यही वजह है कि कुलदीप शर्मा ने अपनी ड्यूटी की गोपनीयता को समझते हुए ये फैसला किया कि वह अपने पिता की मौत पर घर नहीं जाएंगे और बजट की गोपनीय प्रक्रिया पर कोई आंच नहीं आने देंगे. इस बात की जानकारी खुद वित्त मंत्रालय ने ट्वीट करके दी है. कुलदीप शर्मा के इस जज्बे की खूब तारीफ हो रही है.

CAA पर राष्ट्रपति बोले- सांसदों ने गांधी जी की भावना को सर्वोपरि रखा



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)