NDTV Khabar

बुलंदशहर हिंसा: मुख्य आरोपियों में से एक ने किया सरेंडर, बजरंग दल का नेता योगेश राज अभी भी फरार

पुलिस मुख्य आरोपी बजरंग दल के नेता योगेश राज को अभी तक नहीं ढूंढ़ पाई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बुलंदशहर हिंसा: मुख्य आरोपियों में से एक ने किया सरेंडर, बजरंग दल का नेता योगेश राज अभी भी फरार

हिंसा में एक पुलिस इंस्पेक्टर सहित दो लोगों की मौत हो गई थी.

खास बातें

  1. अब तक 18 लोगों की गिरफ्तारी
  2. मुख्य आरोपी अभी भी फरार
  3. वीएचपी नेता को 14 दिन की न्यायिक हिरासत
बुलंदशहर:

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गोकशी के शक में हुई हिंसा के मुख्य आरोपियों में से एक ने स्थानीय कोर्ट में सरेंडर कर दिया. इस हिंसा में एक पुलिस इंस्पेक्टर की हत्या कर दी गई थी. विशाल त्यागी हिंसा के बाद से फरार चल रहा था. त्यागी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है. इस तरह इस मामले में अब 18 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है. लेकिन मुख्य आरोपी बजरंग दल के नेता योगेश राज को पुलिस अभी तक नहीं ढूंढ़ पाई है.

बुलंदशहर जिले के एक गांव में कथित रूप से गायों के अवशेष मिलने के बाद करीब 400 लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई थी. भीड़ को जब समझाने पुलिस पहुंची तो उसने पुलिस पर ही हमला कर दिया. इसके बाद भड़की हिंसा में एक पुलिस इंस्पेक्टर और एक नागरिक की मौत हो गई. घटना के दो सप्ताह बाद भी पुलिस अभी मुख्य आरोपी योगेश राज की तलाश कर रही है. 


NDTV से बोले हार्दिक पटेल, देश को हिंदू-मुसलमान से नहीं, कट्टरता से है खतरा

5 दिसंबर को योगेश ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी कर खुद को बेगुनाह बताया था. उसने दावा किया था कि जब हिंसा भड़की तो वह पुलिस स्टेशन में था. उसने वीडियो में कहा था, 'पुलिस मुझे दोषी करार देने की कोशिश कर रही है. उस दिन दो घटनाएं हुई थीं, जब मैंने सुना कि पास के गांव में गाय के अवशेष मिले हैं तो मैं मेरे साथियों के साथ वहां पहुंचा. वहां पुलिस भी मौजूद थी. जब वहां मामला शांत हो गया तो हम लोग नजदीकी पुलिस थाने शिकायत दर्ज कराने चले गए. जब हिंसा भड़की तो मैं उस वक्त पुलिस थाने में ही था.'

बुलंदशहर हिंसा मामला : पुलिस ने फरार इन 18 आरोपियों के खिलाफ कुर्की का दिया आदेश

पुलिस ने इस मामले में जम्मू से सेना के एक जवान को भी गिरफ्तार किया है. हालांकि, बाद में कहा कि उसके खिलाफ कोई पुख्ता सबूत नहीं हैं. हिंसा की इस घटना के बाद विपक्षी दलों ने योगी आदित्यनाथ सरकार पर हमला किया. समाजवादी पार्टी और मायावती की बसपा ने राज्य में 'पूरी तरह से अराजकता' का आरोप लगाया. वहीं योगी आदित्यनाथ ने पहले इस घटना को बड़ी साजिश बताया था, बाद में एक दुर्घटना करार दे दिया. उन्होंने एक समारोह में कहा था, 'यूपी में कोई मॉब लिंचिंग नहीं हुई है, बुलंदशहर में जो हुआ, वह एक दुर्घटना थी.'

टिप्पणियां

बुलंदशहर हिंसा: गोकशी के आरोप में गिरफ्तारी पर उठे सवाल, जिनके नाम FIR में नहीं उन्हें किया अरेस्ट

बुलंदशहर में कहां से आए गोवंश के अवशेष? रहस्य अब भी बरकरार  



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement