व्यापारी ने किया था आत्महत्या, महोबा में इंद्रमणि त्रिपाठी के मौत मामले में पुलिस का खुलासा

महोबा में व्यापारी इंद्रमणि त्रिपाठी की मौत पर शुक्रवार को पुलिस ने खुलासा किया कि उनकी मौत खुद उन्ही की लाइसेंसी पिस्तौल की गोली से हुई थी.और गोली उनकी कार के अंदर से ही चली थी.

व्यापारी ने किया था आत्महत्या, महोबा में इंद्रमणि त्रिपाठी के मौत मामले में पुलिस का खुलासा

प्रतीकात्मक तस्वीर

महोबा:

महोबा में व्यापारी इंद्रमणि त्रिपाठी की मौत पर शुक्रवार को पुलिस ने खुलासा किया कि उनकी मौत खुद उन्ही की लाइसेंसी पिस्तौल की गोली से हुई थी.और गोली उनकी कार के अंदर से ही चली थी. इसलिए ऐसा लगता है कि व्यापारी ने आत्महत्या की थी. इसके पहले व्यापारी की हत्या का आरोप महोबा के पूर्व एस पी मणिलाल पाटीदार पर लगा था. प्रयागराज के ADG प्रेम प्रकाश ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि व्यापारी इंद्रमणि त्रिपाठी समेत सात लोगों की पिस्तौल की बैलिस्टिक जांच की गई तो पता चला कि जो गोली व्यापारी को लगी थी वह उनकी ही पिस्तौल से चली थी.


गौरतलब है कि व्यापारी ने 5 सितंबर को एक वीडियो वायरल कर आरोप लगाया था की महोबा के एस पी मणिलाल पाटीदार घूस न देने पर उनकी हत्या करवाना चाहते हैं. ADG ने बताया कि फॉरेंसिक जांच,बैलिस्टिक जांच,मेडिको लीगल एक्सपर्ट्स की जांच और  एस आई टी की टीम के मौका मुआयना की जांच से यह बात सामने आई है कि व्यापारी को गोली उसी कार के अंदर से लगी है. जिस कार में वो सवार थे.और मौके पर किसी और की  मौजूदगी के कोई सुबूत नहीं मिले हैं.

यूपी पुलिस के अधिकारी पर हत्या का आरोप, "तलाश में महकमे की ही टीमें"

ADG का कहना है की महोबा के पूर्व एस पी मणिलाल पाटीदार ने व्यापारी का एक साल पुराना एक वीडियो किसी वेब पोर्टल के ज़रिए वायरल करवा दिया था जिसमें व्यपारी जुआ खेलते दिख रहे हैं.उसी आधार पर उन्होंने व्यापारी के खिलाफ एफआईआर भी करवा दी थी. इस सब से व्यापारी इन्द्रकांत त्रिपाठी डिप्रेशन में चले गए थे. ADG ने यह भी बताया कि पूर्व  एस पी मणिलाल पाटीदार से संपर्क नही हो पाया है.अब उनके वकील ने उन्हें जानकारी दी है कि पूर्व एस पी को कोरोना हो गया है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

5 सितंबर को व्यापारी ने एक वीडियो वायरल कर तब के महोबा के एस पी मणिलाल पाटीदार पर अपनी हत्या कराने का शक ज़ाहिर किया था.8 सितंबर को व्यापारी को गोली लगी थी.और 13 सितंबर को उनकी कानपुर में इलाज के दौरान मौत हो गयी थी.इस मामले में पहले एस पी मणिलाल पाटीदार को निलंबित कर दिया गया था. बाद में उनके खिलाफ व्यापारी की हत्या का केस भी दर्ज हो गया था.

VIDEO: महोबा की पत्थर मंडी का काला सच