जगनमोहन रेड्डी के विवादित बोल, 'यदि चंद्रबाबू नायडू को गोली भी मार दी जाए तो गलत नहीं'

आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले के नांदयाल में एक जनसभा में रेड्डी(44) ने आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री एम चंद्रबाबू नायडू के विकास कार्यों की आलोचना करते हुए यह बात कही. इसी सीट पर इस महीने के अंत में उपचुनाव होने हैं.

जगनमोहन रेड्डी के विवादित बोल, 'यदि चंद्रबाबू नायडू को गोली भी मार दी जाए तो गलत नहीं'

जगनमोहन रेड्डी (फाइल फोटो)

खास बातें

  • नांदयाल सीट पर होने हैं इस महीने के आखिर में उपचुनाव
  • रेड्डी ने कहा कि नायडू ने जनता से किए झूठे वादे
  • विवादित बयान के बाद रेड्डी के खिलाफ पुलिस केस दर्ज
हैदराबाद:

एक उपचुनाव प्रचार अभियान के दौरान वाईएसआर कांग्रेस के नेता जगनमोहन रेड्डी ने विवादित बयान देते हुए कहा, ''यदि सड़क पर मुख्‍यमंत्री चंद्रबाबू नायडू को गोली भी मार दी जाए तो इसमें कुछ भी गलत नहीं होगा.'' आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले के नांदयाल में एक जनसभा में रेड्डी(44) ने आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री एम चंद्रबाबू नायडू के विकास कार्यों की आलोचना करते हुए यह बात कही. इसी सीट पर इस महीने के अंत में उपचुनाव होने हैं.

रेड्डी ने कहा कि नायडू ने लोगों को ठगने के साथ-साथ झूठे वादे किए हैं और ऐसे मुख्यमंत्री को गोली मार देना ही ठीक है. उन्होंने रैली में कहा कि जनता से किए गए वादे को सीएम नायडू पूरा नहीं कर रहे हैं. किसान, महिलाओं और बेरोजगारों से किए अपने वादों से नायडू पीछे हट रहे हैं. वे जनता की ओर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे रहे हैं. 

यह भी पढ़ें: वाईएसआर कांग्रेस ने उपराष्ट्रपति पद के लिए वेंकैया नायडू का समर्थन किया

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: काले धन पर चंद्रबाबू नायडू और जगनमोहन रेड्डी आमने-सामने

पुलिस केस दर्ज
रेड्डी ने सीएम नायडू को दोहरे बयानबाजी करने वाला नेता बताया. उन्होंने कहा कि सीएम नायडू जनता से वोट मांगकर उनके साथ धोखा कर रहे हैं. रेड्डी के इस बयान के बाद चंद्रबाबू नायडू की तेलुगु देसम पार्टी (टीडीपी) के एक स्‍थानीय नेता ने जगनमोहन के खिलाफ जनप्रतिनधित्‍व एक्‍ट के तहत जाति, धर्म, भाषा, संप्रदाय के आधार पर हिंसा भड़काने का आरोप लगाते हुए पुलिस केस दर्ज कराया है. इस पर सफाई देते हुए पूर्व अभिनेत्री और वाईएसआर कांग्रेस की नेता रोजा ने कहा कि जगनमोहन रेड्डी का आशय नायडू को नांदयाल में राजनीतिक रूप से हराने से था.