Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

दिल्ली के जाफराबाद में CAA समर्थक और विरोधी भिड़े: क्या BJP नेता कपिल मिश्रा के पहुंचने के बाद तनाव बढ़ा?

बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने कहा कि अगर पुलिस ने इस इलाके में बंद पड़े रास्ते तीन दिन में नहीं खुलवाए तो फिर हम पुलिस की भी नहीं सुनेंगे.

नई दिल्ली:

नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध में देश के कई इलाकों में धरने और प्रदर्शनों का सिलसिला जारी है. इसी मुद्दे पर रविवार को दिल्ली में जाफ़राबाद के क़रीब मौजपुर मेट्रो स्टेशन के पास उस वक़्त तनाव और फिर पत्थरबाज़ी हो गई जब बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने कहा कि अगर पुलिस ने इस इलाके में बंद पड़े रास्ते तीन दिन में नहीं खुलवाए तो फिर हम पुलिस की भी नहीं सुनेंगे. कपिल मिश्रा ने कहा कि वो डोनाल्ड ट्रंप के दौरे तक ही चुप हैं. कपिल मिश्रा के बयान के बाद वहां नागरिकता संशोधन क़ानून का विरोध और समर्थन कर रहे लोगों के बीच पत्थरबाज़ी शुरू हो गई. हालात को देखते हुए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े. काफ़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने दोनों ही पक्षों को एक दूसरे से दूर किया. इसके बाद शाम को नागरिकता क़ानून के विरोध में वहां महिलाओं ने धरना शुरू कर दिया जबकि दूसरी ओर समर्थक भी नारेबाज़ी पर उतर आए. 

दिल्‍ली के जाफराबाद इलाके में दो गुटों में पथराव, पास में ही CAA के खिलाफ जारी है प्रदर्शन

संयुक्त पुलिस आयुक्त (पूर्वी रेंज) आलोक कुमार ने कहा, "हम इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों की पहचान कर रहे हैं." एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि हालात नियंत्रण में हैं. उन्होंने कहा, "हम स्थानीय नेताओं से लगातार बात कर रहे हैं ताकि इलाके में शांति बनी रहे और हम प्रदर्शनकारियों से मुख्य सड़क से हटने का भी अनुरोध कर रहे हैं." अधिकारी ने बताया कि किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए मौजपुर इलाके में पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं. मिश्रा ने ट्वीट किया, ''हमने दिल्ली पुलिस को सड़क खाली कराने के लिये तीन दिन का समय दिया है. जाफराबाद और चांदबाग की सड़क खाली कराएं.''

 जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास महिलाओं ने जाम की सड़क, भीम आर्मी के 'भारत बंद' का दिया हवाला

मिश्रा ने एक वीडियो भी ट्वीट किया, जिसमें वह सभा को संबोधित करते हुए कह रहे हैं, ''वे (प्रदर्शनकारी) दिल्ली में तनाव पैदा करना चाहते हैं. इसलिये उन्होंने सड़कें बंद कर दी हैं. इसीलिये उन्होंने यहां दंगे जैसे हालात पैदा कर दिये हैं. हमने कोई पथराव नहीं किया.'' उन्होंने वहां मौजूद लोगों से कहा, "अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत में रहने तक, हम इलाके को शांतिपूर्वक छोड़ रहे हैं. इसके बाद अगर तब तक सड़कें खाली नहीं हुईं तो हम आपकी (पुलिस की) नहीं सुनेंगे."