करतारपुर कॉरिडोर को मिली मंजूरी, अपने खर्च से बनाएगी केंद्र सरकार, दरबार साहिब जा सकेंगे सिख श्रद्धालु

करतारपुर कॉरिडोर के जरिए सिख श्रद्धालु पूरे साल आसानी से पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब के दर्शन करने जा सकेंगे.

करतारपुर कॉरिडोर को मिली मंजूरी, अपने खर्च से बनाएगी केंद्र सरकार, दरबार साहिब जा सकेंगे सिख श्रद्धालु

पाकिस्तान के करतारपुर स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब सिखों के सर्वाधिक पवित्र धर्मस्थलों में से एक है.

खास बातें

  • केंद्र सरकार का बड़ा एलान.
  • आज गुरुनानक देव जी का 550वां जन्म वर्ष है.
  • केंद्र सरकार उठाएगी पूरा खर्च
नई दिल्ली:

कैबिनेट ने एक अहम फैसले में सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती के अवसर पर बड़े स्तर पर समारोहों के आयोजन को मंजूरी दी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में ये फैसला लिया गया. सबसे अहम फैसला करतारपुर साहिब गलियारे के विकास को लेकर है. ये तय किया गया है कि गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक से अंतरराष्ट्रीय सीमा तक करतारपुर गलियारे को विकसित किया जायेगा. कैबिनेट की तरफ से जारी एक विज्ञप्ति के मुताबिक सरकार ने ये फैसला इसलिए लिया है, "ताकि भारत से तीर्थ यात्री आसानी से पाकिस्तान में रावी नदी के तट पर स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब करतारपुर जा सकें जहां गुरुनानक देवजी ने अपने जीवन के 18 वर्ष बिताए थे. इसके बाद तीर्थ यात्री पूरे वर्ष इस पवित्र गुरुद्वारे में जा सकेंगे.

करतारपुर गलियारे का कार्य सरकार की सहायता से एक संयुक्त विकास परियोजना के रूप में किया जाएगा ताकि सभी आधुनिक सुविधाओं वाले इस मार्ग से तीर्थ यात्री सुगमता और सरलता आ-जा सकें. सरकार तीर्थयात्रियों की आसानी के लिए उपयुक्त सुविधाएं देगी." ये महत्वपूर्ण है की भारत सरकार ने पाकिस्तान सरकार से आग्रह किया है कि वह सिख समुदाय की भावनाओं का सम्मान करे और अपने इलाके में भी एक गलियारा को विकसित करने की पहल शुरू करे.

मोदी सरकार ने यह भी फैसला किया है कि गुरुनानक देवजी के जीवन से जुड़े ऐतिहासिक शहर सुल्तानपुर लोधी को भी स्मार्ट सिटी की तर्ज पर एक धरोहर शहर के तौर पर विकसित किया जाएगा. मंशा इस शहर को तीर्थ यात्रियों और पर्यटकों के लिए और आकर्षित बनाया जाये. सरकार की तैयारी पूरी दुनिया में इसे मानाने की है और इस दिशा में विदेशों में भारतीय दूतावासो में विशेष कार्यक्रम भी आयोजित किये जायेंगे. तैयारी इस अवसर पर स्मारक सिक्का और डाक टिकट भी जारी करने की है.

करतारपुर कॉरिडोर पर मचा घमासान, केंद्रीय मंत्री हरसिमरत ने सिद्धू को बताया झूठा

केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर इसकी जानकारी दी. जेटली ने कहा, 'करतारपुर कॉरिडोर पर ही वीजा की सुविधा, कस्टम की सुविधा होगी. ताकि लोगों को किसी तरह की कोई दिक्कत ना हो. इसको पूरी तरह से केंद्र सरकार की फंडिंग के साथ तैयार किया जाएगा' इसके साथ ही उन्होंने बताया कि सुल्तानपुर लोधी को एक हैरीटेज टाउन व स्मॉर्ट सिटी के रूप में विकसित किया जाएगा. यह स्थल गुरुनानक देव के जन्म से जुड़ा स्थल है. यहां एक हैरीटेज कॉम्पलेक्स भी बनेगा. जिसका नाम पिंड बाबा नानक धाम के नाम होगा. इसमें उनके जीवन की पूरी यात्रा के बारे में बताया जाएगा. इससे पहले केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने इसके बारे में जानकारी दी थी.

करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए हाई पावर दूरबीन लगाएगी सरकार
पाकिस्तान से लगती सरहद पर भारत एक हाई पावर दूरबीन लगाएगा ताकि सिख श्रद्धालु करतारपुर साहिब को देख सकें.    सरकार ने हालही में ऐलान किया कि गुरू नानक देव की 550वीं जयंती मनाने के कई आयोजन किए जाएंगे. इसके तहत उनकी याद में एक सिक्का और एक डाक टिकट भी जारी किया जाएगा. गृह मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रोद्यौगिकी मंत्रालय पाकिस्तान में स्थित करतारपुर साहिब को देखने के लिए श्रद्धालुओं के लिए एक हाई पावर दूरबीन लगाएगा, जबकि रेल मंत्रालय एक ट्रेन चलाएगा जो सिख गुरू से संबंधित स्थानों से गुजरेगी.  

हरसिमरत कौर का दावा, सुषमा स्वराज ने नवजोत सिंह सिद्धू को ‘फटकारा' 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बता दें, करतारपुर साहिब का मुद्दा तब सुर्खियों में आ गया था जब पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने दावा किया था कि पाकिस्तान के सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने उनसे कहा है कि पाकिस्तान करतारपुर साहिब गालियारा खोल सकता है जो पंजाब में अंतरराष्ट्रीय सीमा के ठीक उस पार स्थित है, दरअसल, सिद्धू अपने दोस्त क्रिकेटर से सियासत में आए इमरान खान के प्रधानमंत्री पद पर शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के लिए अगस्त में पाकिस्तान गए थे और वतन लौटने पर उन्होंने उक्त दावा किया था.

करतारपुर गलियाराः कांग्रेस नेता सिद्धू को केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने बताया झूठा