NDTV Khabar

कलकत्ता हाईकोर्ट से BJP नेता मुकुल रॉय को मिली राहत, जानें पूरा मामला

कलकत्ता हाईकोर्ट ने रेलवे की एक समिति की सदस्यता दिलाने के बदले धन के कथित भुगतान से जुड़े मामले में भाजपा नेता मुकुल रॉय को मंगलवार को राहत दी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कलकत्ता हाईकोर्ट से BJP नेता मुकुल रॉय को मिली राहत, जानें पूरा मामला

BJP नेता मुकुल रॉय को कलकत्ता हाईकोर्ट से मिली राहत.

कोलकाता:

कलकत्ता हाईकोर्ट ने रेलवे की एक समिति की सदस्यता दिलाने के बदले धन के कथित भुगतान से जुड़े मामले में भाजपा नेता मुकुल रॉय को मंगलवार को राहत दी. अदालत ने इस मामले में कोलकाता पुलिस को अगले आदेश तक उन्हें गिरफ्तार नहीं करने का निर्देश दिया. न्यायमूर्ति एस मुंशी और न्यायमूर्ति मोहम्मद निजामुद्दीन की पीठ ने रॉय को राहत देते हुए कहा कि मामला सुनवाई के लिए सूची में नहीं आएगा और अभियोजन तथा याचिकाकर्ता जरूरत पड़ने पर उनके सामने मामले का उल्लेख करने को कहा. अदालत ने रॉय को मामले की जांच में सहयोग करने को कहा.

पश्चिम बंगाल के बीजेपी नेता मुकुल रॉय का दावा, TMC के 100 से ज्यादा विधायक संपर्क में

अभियोजन ने दस्तावेजों के परीक्षण के लिए तथा मामले में केंद्रीय एजेंसियों से सूचनाएं हासिल करने के लिए समय की मांग की थी. न्यायालय ने सबसे पहले पिछले साल 29 अगस्त को रॉय को गिरफ्तारी से एक हफ्ते का संरक्षण प्रदान किया था. भगवा पार्टी की स्थानीय श्रम इकाई के नेता होने का दावा करने वाले बबन घोष के खिलाफ कारोबारी शंतू गांगुली ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया था. इसी मामले में भाजपा नेता अग्रिम जमानत के लिए उच्च न्यायालय पहुंचे थे.


टिप्पणियां

टॉलीवुड के फिल्म और टीवी के यह सितारे हुए बीजेपी में शामिल

गांगुली ने आरोप लगाया था कि घोष ने रॉय का नाम लेकर जोनल रेलवे यूजर्स कंसल्टिव कमेटी की सदस्यता दिलाने का आश्वासन दिया और घूस के तौर पर उनसे लाखों रुपये वसूले. कोलकाता पुलिस द्वारा घोष की गिरफ्तारी के बाद मामले में रॉय का नाम आने के बाद उन्होंने अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... राजगढ़ के थप्पड़ कांड को लेकर हाई कोर्ट ने राज्य सरकार और कलेक्टर से जवाब मांगा

Advertisement