बंगाल में दुर्गा पूजा के पंडाल दर्शनार्थियों के लिए 'नो एंट्री जोन' : कलकत्‍ता हाईकोर्ट

कोर्ट ने कहा है कि पंडाल के अंदर केवल आयोजकों को ही रहने की इजाजत होगी. कोरोना महामारी के मद्देनजर बड़े पंडालों के लिए यह संख्‍या 25 और छोटे पंडालों के लिए यह संख्‍या 15 सीमित की गई है.

खास बातें

  • पंडाल में केवल आयोजक को ही रहने की इजाजत होगी
  • बड़े पंडालों के लिए आयोजकों की संख्‍या 25, छोटे के लिए 15 सीमित की
  • कहा, कोलकाता में इतनी पुलिस नहीं कि 3000 झांकियों की व्‍यस्‍था संभाल सके
कोलकाता:

कलकत्‍ता हाईकोर्ट (Calcutta High Court) ने सोमवार को कहा है कि दुर्गा पूजा पंडाल (Durga Puja pandals) दर्शनार्थियों (visitors) के लिए नो एंट्री जोन होंगे. कोर्ट ने कहा है कि पंडाल के अंदर केवल आयोजकों को ही रहने की इजाजत होगी. कोरोना महामारी के मद्देनजर बड़े पंडालों के लिए यह संख्‍या 25 और छोटे पंडालों के लिए यह संख्‍या 15 सीमित की गई है.

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले चुनावी अखाड़ा बना दुर्गा पूजा महोत्सव

कलकत्‍ता हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच की ओर से कहा गया है कि सभी बड़े पंडाल को 10 मीटर की दूरी पर बैरिकेड लगाने होंगे जबकि छोटे पंडाल के लिए यह पांच मीटर की दूरी पर बैरिकेड लगाने होंगे.लोगों के स्‍वास्‍थ्‍य को अहम बताते हुए अदालत ने कहा कि कोलकाता में इतनी पुलिस नहीं है कि 3000 पंडालों में श्रद्धालुओं को नियंत्रित कर सके.  

Newsbeep

सिटी एक्सप्रेस : देवी दुर्गा की मूर्ति में दिखी प्रवासी मजदूरों की पीड़ा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com