संसदीय कमेटी की रिपोर्ट पर सरकार को आदेश दे सकता है कोर्ट? संविधान पीठ करेगी तय

संसदीय कमेटी की रिपोर्ट पर सरकार को आदेश दे सकता है कोर्ट? संविधान पीठ करेगी तय

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ तय करेगी कि क्या संसदीय कमेटी की रिपोर्ट पर कोर्ट सरकार को आदेश दे सकता है?

खास बातें

  • सरकार ने कहा, पैनल की रिपोर्ट पर कोर्ट सरकार को आदेश नहीं दे सकता
  • आदिवासी लड़कियों पर एचपीवी वैक्सीन के ट्रायल के खिलाफ याचिका
  • जनहित याचिका में वैक्सीन ट्रायल को अनैतिक बताया गया
नई दिल्ली:

अब संविधान पीठ तय करेगी कि क्या संसदीय कमेटी की रिपोर्ट पर कोर्ट सरकार को आदेश दे सकता है? सुप्रीम कोर्ट में दो जजों की बेंच ने मामले को पांच जजों की संविधान पीठ को भेज दिया है. सुप्रीम कोर्ट गुजरात और आंध्र प्रदेश में आदिवासी लड़कियों पर एचपीवी वैक्सीन के ट्रायल के खिलाफ दाखिल जनहित याचिका पर सुनवाई कर रहा है. याचिका में इस ट्रायल को अनैतिक बताया गया है. याचिका में संसदीय कमेटी की रिपोर्ट का हवाला दिया गया है और ट्रायल की आलोचना की गई है.

Newsbeep

मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि संसदीय कमेटी की रिपोर्ट संसद में बहस और मुद्दे को समझने के लिए इस्तेमाल होती है. जहां तक इस बहस का सवाल है, कोर्ट के हाथ बंधे हुए हैं. क्या कोर्ट संसदीय कमेटी की रिपोर्ट पर न्यायिक समीक्षा कर सकता है?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं केंद्र सरकार ने भी इसका विरोध किया और कहा कि पैनल की रिपोर्ट के आधार पर कोर्ट सरकार को आदेश नहीं दे सकता. यह संवैधानिक पैरामीटर के आधार पर देखा जाना चाहिए. केंद्र ने यह भी कहा कि आर्टिकल 122 साफ करता है कि कोर्ट संसद के अंदर चल रही प्रक्रिया में दखल नहीं दे सकता.