किसी की देशभक्ति की परीक्षा रोज़-रोज़ नहीं ली जा सकती : महबूबा मुफ्ती के बचाव में उतरे राम माधव

किसी की देशभक्ति की परीक्षा रोज़-रोज़ नहीं ली जा सकती : महबूबा मुफ्ती के बचाव में उतरे राम माधव

खास बातें

  • दिल्ली के मंत्री कपिल मिश्रा ने महबूबा से बुरहान वानी पर किया था सवाल
  • राम माधव ने कहा, "आप हर रोज़ किसी की देशभक्ति की परीक्षा नहीं ले सकते..."
  • राम माधव के अनुसार, "महबूबा ने हमेशा हालात का सामना परिपक्वता से किया..."
नई दिल्ली:

दिल्ली के मंत्री कपिल मिश्रा द्वारा जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती पर किए गए हालिया हमले के संदर्भ में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता राम माधव ने कहा कि किसी के भीतर मौजूद देशभक्ति की परीक्षा रोज़-रोज़ नहीं ली जा सकती.

आम आदमी पार्टी के कपिल मिश्रा ने राजधानी दिल्ली में हाल ही में आयोजित एक समारोह के दौरान महबूबा मुफ्ती से सवाल किया, "क्या आप मानती हैं कि बुरहान वानी आतंकवादी था..." गौरतलब है कि जुलाई में सुरक्षाबलों से मुठभेड़ के दौरान हिज़्ब-उल-मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान की मौत हुई थी, और तभी से कश्मीर घाटी में तनाव का माहौल बना रहा है.

जम्मू एव कश्मीर में पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के साथ बीजेपी के सत्तारूढ़ गठबंधन के प्रबंधन की ज़िम्मेदारी संभाल रहे राम माधव ने कहा, "आप हर रोज़ किसी की देशभक्ति की परीक्षा नहीं ले सकते... आप रोज़ उनसे देशभक्ति सिद्ध करने के लिए नहीं कह सकते... वे ज़िम्मेदार लोग हैं, और ज़िम्मेदार पदों पर बैठे हैं..."

उन्होंने कहा कि महबूबा मुफ्ती को लगातार इस तरह के सवालों का सामना करना पड़ता है, और "उन्होंने हमेशा ऐसे हालात का सामना काफी परिपक्वता के साथ' किया है. वह इस तरह के मुद्दों को लेकर बिल्कुल स्पष्ट हैं... उनके दिमाग में इसे लेकर कोई दो राय नहीं हैं..."

राम माधव के मुताबिक, महबूबा मुफ्ती को मुख्यमंत्री के रूप में न केवल कश्मीर में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को बनाए रखना था, बल्कि 'छह लाख लोगों की भावनाओं का भी ध्यान रखना था...'

जुलाई में बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से पूरे कश्मीर में हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं. इस दौरान प्रदर्शनकारियों तथा सुरक्षाबलों के बीच हुए संघर्षों में कुल मिलाकर 90 से ज़्यादा लोग मारे गए, और 10,000 से ज़्यादा घायल हुए.

महबूबा मुफ्ती की यह कहने के लिए आलोचना होती रही है कि यदि सुरक्षाबल बुरहान वानी को पहचान लेते, तो उसे 'एक मौका दिया गया होता...'

Newsbeep

दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में कपिल मिश्रा ने यह कहते हुए महबूबा मुफ्ती के साथ मंच साझा करने से इंकार कर दिया था कि "हम पाकिस्तान से लड़ सकते हैं, लेकिन हम उन लोगों से कैसे लड़ सकते हैं, जो जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवादियों को शरण देते हैं..."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जम्मू एवं कश्मीर में नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता तथा पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला समेत कई विपक्षी दलों की ओर से कश्मीर में फैले तनाव से ढंग से निपटने में नाकामी का आरोप झेल रहीं महबूबा मुफ्ती को राम माधव की ओर से 'अच्छे काम' का सर्टिफिकेट मिल गया, जब उन्होंने कहा, "वह अच्छा काम कर रही हैं..."