NDTV Khabar

कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन की मांग को लेकर तमिलनाडु में प्रदर्शन

पुलिस के मुताबिक विरोध प्रदर्शनों के सिलसिले में राज्य भर में 1,000 से ज्यादा लोग हिरासत में लिए गए और बाद में रिहा कर दिए गए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन की मांग को लेकर तमिलनाडु में प्रदर्शन

सुप्रीम कोर्ट की फाइल फोटो

नई दिल्ली:

तमिलनाडु के कोयंबटूर में दो युवकों ने कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन की मांग को लेकर आत्मदाह करने की कोशिश की. घटना सोमवार की है. हालांकि पुलिस ने समय रहते उन्हें ऐसा करने से रोक लिया है. पुलिस के अनुसार दोनों युवक द्रमुक के कार्यकर्ता है. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने 16 फरवरी को दिए अपने फैसले में राज्य में कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन की बात कही थी. बोर्ड के गठन में हो रही देरी के विरोध में राज्य में इन दिनों प्रदर्शन हो रहे हैं. वहीं राज्य मे हो रहे प्रदर्शन के बीच राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित सोमवार शाम में दिल्ली गए हैं. द्रमुक और कुछ अन्य तमिल समर्थक संगठनों के इस आंदोलन के दौरान चेन्नई, तिरुवरूर और मदुरै समेत कई स्थानों पर छात्रों एवं अन्य लोगों ने धरना दिया और विरोध प्रदर्शन किया.

यह भी पढ़ें: कावेरी जल विवाद: CJI ने कहा, हम देखेंगे कि तमिलनाडु को उसके हिस्से का पानी मिले


पुलिस के मुताबिक विरोध प्रदर्शनों के सिलसिले में राज्य भर में 1,000 से ज्यादा लोग हिरासत में लिए गए और बाद में रिहा कर दिए गए. पुलिस ने कहा कि पीलामेदु में द्रमुक के दो कार्यकर्ताओं पी. टी. मुरूगेसन और सिन्गई सदाशिवम ने अपने ऊपर मिट्टी तेल छिड़क कर आत्मदाह करने का प्रयास किया. पीएमके के संस्थापक डॉ. एस रामदास ने किसान संगठनों एवं व्यापारियों की ओर से कल बुलाए गए बंद को अपनी पार्टी के समर्थन का ऐलान किया.

यह भी पढ़ें: राज्यसभा में विपक्षी पार्टियों का हंगामा, कार्यवाही 2 बजे तक स्थगित

रामदास की पार्टी द्रमुक की अगुवाई में विपक्षी पार्टियों की ओर से पांच अप्रैल को बुलाए जाने वाले बंद को भी अपना समर्थन देगी. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी कावेरी से जुड़े सभी प्रदर्शनों का समर्थन करेगी. इस बीच, एलपीएफ( द्रमुक) और ऐटक( भाकपा) सहित विपक्षी पार्टियों से जुड़े प्रमुख ट्रेड यूनियनों ने पांच अप्रैल को होने वाले बंद का समर्थन करने का फैसला किया है. बंद का समर्थन करने के लिए उन्होंने चेन्नई और कोयंबटूर में बैठकें की.

टिप्पणियां

VIDEO: कावेरी विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला.

पूरे राज्य में द्रमुक कार्यकर्ताओं ने कावेरी प्रबंधन बोर्ड के तत्काल गठन की मांग को लेकर प्रदर्शन किया. वहीं पार्टी प्रमुख स्टालिन ने कल बयान दिया था कि जब तक बोर्डका गठन नहीं किया जाता है आंदोलन चलता रहेगा. चेन्नई में कई स्थानों पर द्रमुक कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया.  ( इनपुट भाषा से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement