NDTV Khabar

CBI चीफ का ऐलान आज: सरकार ने 12 नामों को किया शॉर्टलिस्ट, जानें- रेस में कौन है आगे

पीएमओ से जुड़े सूत्रों के मुताबिक 1982 से 1985 बैच के आईपीएस इस पद की दौड़ में हैं. सरकार ने वरिष्ठता, अखंडता, भ्रष्टचार के केसों की जांच का अनुभव और सीबीआई में काम करने या विजिलेंस मामले संभालने के अनुभव के आधार पर 12 नामों को शॉर्टलिस्ट किया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
CBI चीफ का ऐलान आज: सरकार ने 12 नामों को किया शॉर्टलिस्ट, जानें- रेस में कौन है आगे

सीबीआई मुख्यालय के बाहर की तस्वीर.

खास बातें

  1. पीएम निवास पर कमेटी की बैठक आज
  2. 12 नाम किए शॉर्टलिस्ट- सूत्र
  3. 1982 से 1985 बैच के आईपीएस दौड़ में
नई दिल्ली:

सीबीआई (CBI) में तीन महीने चले ड्रामे के बाद गुरुवार को नए सीबीआई डायरेक्टर का ऐलान हो जाएगा. हाई पावर सलेक्शन कमेटी की गुरुवार शाम प्रधानमंत्री निवास (PM House)पर बैठक है, इसमें नए सीबीआई चीफ (CBI Chief) का फैसला किया जाएगा. हाई पावर कमेटी की ओर से सीबीआई चीफ के पद से आलोक वर्मा (Alok Verma) को हटाने के तीन सप्ताह के बाद यह बैठक हो रही है. इस कमेटी के अध्यक्ष पीएम मोदी हैं और सीजेआई रंजन गोगोई और नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे इसके सदस्य हैं. पीएमओ से जुड़े सूत्रों के मुताबिक 1982 से 1985 बैच के आईपीएस ऑफिसर इस पद की दौड़ में हैं. सरकार ने वरिष्ठता, अखंडता, भ्रष्टचार के केसों की जांच का अनुभव और सीबीआई में काम करने या विजिलेंस मामले संभालने के अनुभव के आधार पर 12 नामों को शॉर्टलिस्ट किया है.

पीएमओ में एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'सरकार इस बार कोई चांस नहीं लेना चाहती, इसलिए उन्होंने एक दर्जन से ज्यादा अधिकारियों के नाम शॉर्टलिस्ट किए हैं.' जिन अधिकारियों के नाम शॉर्टलिस्ट किए गए हैं, उनमें 1983 बैच के अधिकारी शिवानंद झा (अभी गुजरात के डीजीपी हैं), बीएसएफ डायरेक्टर जनरल रजनीकांत मिश्रा, सीआईएसएफ डायरेक्टर जनरल राजेश रंजन, एनआईए डायरेक्टर जनरल वाईसी मोदी और मुंबई पुलिस कमिश्नर सुबोध जयसवाल शामिल हैं.


ट्रांसफर को चुनौती देने एके बस्सी फिर पहुंचे सुप्रीम कोर्ट, CBI के अंतरिम निदेशक नागेश्वर राव पर लगाए ये आरोप...

एक सीनियर अधिकारी ने कहा, 'अगर मामला वरिष्ठता पर फंसता है तो सरकार झा के नाम के साथ जा सकती है. पीएम उन्हें अच्छे से जानते हैं, उन्होंने झा को अहमदाबाद का पुलिस कमिश्नर नियुक्त किया था.' झा 2011 में रिटायर होंगे. 

अगर गुजरात डीजीपी का पद खाली होता है तो मोदी सरकार सीबीआई के नंबर-2 राकेश अस्थाना को वहां भेज सकती है. अधिकारी के मुताबिक एनआईए के डायरेक्टर जनरल वाईसी मोदी भी सीबीआई चीफ पद के लिए मजबूत दावेदार हैं. उन्होंने कहा, 'उनका आरएसएस से भी जुड़ाव रहा है और काफी लंबे समय तक सीबीआई में काम किया है.' वाईसी मोदी उस विशेष जांच टीम का हिस्सा भी थे, जिसने गुजरात दंगों की जांच की थी. 

CBI के अंतरिम निदेशक के रूप में नागेश्वर राव की नियुक्ति के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से CJI ने खुद को अलग किया

सूत्रों के मुताबिक बीएसएफ के डायरेक्टर जनरल आरके मिश्रा के नाम पर भी विचार हो सकता है, क्योंकि वह पीएम के मुख्य सचिव नृपेंद्र मिश्रा के करीबी हैं. इसके साथ ही बताया गया है कि मुंबई पुलिस कमिश्नर सुबोध जयसवाल का भी आरएसएस से जुड़ाव रहा है.

खड़गे का PM मोदी को पत्र : आलोक वर्मा को CBI निदेशक के पद से हटाने से जुड़े दस्तावेज हों सार्वजनिक

टिप्पणियां

VIDEO- सीबीआई मामले से अलग हुए सीजेआई

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement