दाभोलकर की हत्या आतंक पैदा करने के लिए की गई थी: सीबीआई

सीबीआई (CBI) ने अदालत से दो आरोपियों सचिन एंडुरे और शरद कालस्कर के खिलाफ आरोप पत्र दायर करने के लिए 90 दिन का समय मांगा.

दाभोलकर की हत्या आतंक पैदा करने के लिए की गई थी: सीबीआई

दाभोलकर मामले में सीबीआई का खुलासा

नई दिल्ली:

सीबीआई (CBI) ने गुरुवार को पुणे की एक अदालत को बताया कि दाभोलकर की हत्या (Dabholkar Murder) के मामले में शामिल आरोपियों का मकसद सिर्फ आतंक फैलाना था. यही वजह थी कि सीबीआई (CBI) ने आरोपियों के खिलाफ आंतक फैलाने के आरोप दर्ज किए थे. सीबीआई (CBI) ने गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) कानून (यूएपीए) की धाराओं 15 (आतंकी कृत्य) और 16 (आतंकी कृत्य के लिए सजा) लगाने की मांग करते हुये अदालत से दो आरोपियों सचिन एंडुरे और शरद कालस्कर के खिलाफ आरोप पत्र दायर करने के लिए 90 दिन का समय मांगा. ध्यान हो कि मामले में एंडुरे और शरद कालस्कर समेत गिरफ्तार छह में से पांच आरोपियों के खिलाफ पूरक आरोप पत्र दायर करने के लिए प्रारंभिक 90 दिन की अवधि 18 नवंबर को समाप्त हो रही है.

यह भी पढ़ें: दाभोलकर हत्याकांड: कोर्ट ने शरद कलस्कर की हिरासत बढ़ाने वाली याचिका खारिज की

इस मामले में सीबीआई ने 2016 में छठे आरोपी के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था. एंडुरे और शरद कालस्कर पुणे में 20 अगस्त 2013 को जाने माने अंधविश्वास विरोधी कार्यकर्ता दाभोलकर की हत्या करने वाले शूटरों में कथित तौर पर शामिल थे. गौरतलब है कि इससे पहले केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने अदालत में कहा था कि तर्कवादी नरेंद्र दाभोलकर की हत्या के आरोपियों में एक शरद कलस्कर ने जुलाई में मुम्बई के समीप एक संकरी नदी में चार आग्नेयास्त्र फेंक दिये थे.

यह भी पढ़ें: दाभोलकर और गौरी लंकेश हत्‍याकांड के जुड़ते तार? CBI को ये है अंदेशा

एजेंसी ने दावा किया है कि कलस्कर उन दो व्यक्तियों में एक है जिन्होंने यहां ओंकारेश्वर पुल पर 20 अगस्त, 2013 को दाभोलकर पर गोलियां चलायी थी. उसने अदालत से यह भी कहा कि जब कलस्कर ने इन हथियारों को फेंका था तब उसके साथ वैभव राउत भी था. महाराष्ट्र के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने अगस्त में राउत को हथियारों के जखीरे की बरामदगी के एक मामले में गिरफ्तार किया था. पालघर के नालासोपारा इलाके में एक छापे के दौरान राउत और कलास्कर को एटीएस ने दस अगस्त को गिरफ्तार किया था. जिसके बाद भारी मात्रा में विस्फोटक और आग्नेयास्त्र जब्त किये गये.

यह भी पढ़ें : औरंगाबाद में हथियार जब्त : आरोपियों को दो दिन के लिये पुलिस हिरासत में भेजा गया

Newsbeep

न्यायिक मजिस्ट्रेट एस एम ए सय्याद ने कलस्कर की हिरासत 17 सितंबर तक के लिए बढ़ा दी. खास बात यह है कि शिवसेना के पूर्व पार्षद श्रीकांत पन्गारकर को महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने राज्य के विभिन्न हिस्सों से नौ और 11 अगस्त के बीच देसी बमों और हथियारों की बरामदगी के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था.ध्यान हो कि पन्गारकर को विस्फोटक पदार्थ अधिनियम और गैर कानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: विवादों में आई सनातन संस्था की सफाई.

इससे पहले एटीएस ने तीन लोगों--वैभव राउत, शरद कालस्कर और सुधन्वा गांधालेकर--को पालघर और पुणे जिले से 10 अगस्त को बम और हथियार बरामद किेये जाने के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था. (इनपुट भाषा से)