NDTV Khabar

राहुल गांधी ने CBI चीफ को छुट्टी पर भेजने का मामला राफेल डील से जोड़ा, कहा- जांच शुरू हुई तो PM 'खत्म'

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ( Rahul gandhi) ने सीबीआई चीफ को रात के 2 बजे छुट्टी पर भेजने के मामले पर मोदी सरकार को जमकर घेरा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राहुल गांधी ने CBI चीफ को छुट्टी पर भेजने का मामला राफेल डील से जोड़ा, कहा- जांच शुरू हुई तो PM 'खत्म'

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर जमकर हमला बोला.

खास बातें

  1. CBI चीफ को रात 2 बजे हटाना संविधान का अपमान
  2. CBI जांच हुई तो पीएम खत्म: राहुल गांधी
  3. PM जानते हैं जांच से उनकी चोरी पकड़ी जाएगी
नई दिल्ली:

सीबीआई  (CBI Crisis) में चल रहे संग्राम के बीच कांग्रेस लगातार मोदी सरकार (Modi Govt) पर हमलावर है. सीबीआई चीफ आलोक वर्मा (Alok Verma) को छुट्टी पर भेजे जाने को राफेल डील (Rafale Deal) में कथित भ्रष्टाचार से जोड़ते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने एक बार फिर पीएम मोदी पर हमला बोला. राहुल गांधी ( Rahul gandhi) ने सीबीआई चीफ को रात के 2 बजे छुट्टी पर भेजे जाने को देश के लोगों और संविधान का अपमान बताया. उन्होंने कहा कि सीबीआई डायरेक्टर की नियुक्ति 3 लोगों की समिति करती है. पीएम, नेता विपक्ष और सीजेआई. उन्होंने कहा, 'सीबीआई डायरेक्टर को पीएम ने रात 2 बजे हटाया, यह भारत के संविधान, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया, विपक्ष के नेता और भारत के लोगों का अपमान है. 

यह भी पढ़ें : कांग्रेस का हमला, इस वजह से CBI निदेशक की 'जासूसी' करा रही मोदी सरकार


कांग्रेस अध्यक्ष ने आलोक वर्मा को रात के 2 बजे छुट्टी पर भेजे जाने को राफेल डील में कथित भ्रष्टाचार पर पर्दा डालने की कोशिश बताया. राहुल गांधी ने कहा कि पूरा देश जानता है कि प्रधानमंत्री ने भ्रष्टाचार किया है. प्रधानमंत्री जानते हैं कि यदि राफेल की जांच शुरू हो गई तो वह खत्म हो जाएंगे और यही उनकी घबराहट है. उन्होंने कहा कि अगर सीबीआई जांच शुरू हो जाती तो दूध का दूध, पानी का पानी हो जाता और इससे घबराकर, डरकर प्रधानमंत्री ने सीबीआई डायरेक्टर को हटा दिया. राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री सिर्फ सीबीआई डायरेक्टर को हटा नहीं रहे हैं बल्कि, सबूतों को मिटाने का काम भी कर रहे हैं. ये देश प्रधानमंत्री को उनके भ्रष्टाचार को भूलने नहीं देगा.

यह भी पढ़ें :  आलोक वर्मा को हटाने और नागेश्वर की नियुक्ति को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती, राकेश अस्थाना को CBI से हटाने की मांग
 
इससे पहले कांग्रेस ने सरकार पर आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार राफेल 'घोटाले' को 'दबाने' के लिए सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा की 'जासूसी' का सहारा ले रहे हैं.  लोकसभा में कांग्रेस के नेता नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और पार्टी के वरिष्ठ नेता अभिषेक सिंघवी ने आरोप लगाया कि 'राफेल-ओ-फोबिया' से पीड़ित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सीबीआई की जासूसी और निगरानी में शामिल हैं. इन आरोपों पर प्रधानमंत्री कार्यालय से तत्काल प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी. खड़गे ने वर्मा को हटाए जाने पर आपत्ति जताते हुए प्रधानमंत्री को पत्र भी लिखा है.

यह भी पढ़ें : सीबीआई में भूचाल लाने वाले मोइन कुरैशी का जानिए क्या है 'पाकिस्तान कनेक्शन'

टिप्पणियां

खड़गे और सिंघवी ने आरोप लगाया कि खुफिया ब्यूरो 'ऐसे अधिकारी की जासूसी कर रहा था जो राफेल घोटाले में संदेहास्पद लेन-देन का खुलासा करने वाले थे.' कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्विटर पर लिखा, 'सीबीआई निदेशक को रात में दो बजे अवैध रूप से हटा दिया गया. आज, आईबी के चार सदस्य उनके घर के बाहर घूमते हुए पकड़े गए.' उन्होंने इसे रोमांचक मोड़ बताया जहां अपराध और राजनीतिक कुचक्र का मेल होता है.

VIDEO : छुट्टी पर गए सीबीआई चीफ आलोक वर्मा पर नजर ?
 
पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को प्रधानमंत्री पर आरोप लगाया था कि राफेल 'घोटाले' की जांच से रोकने के लिए वर्मा को हटाया गया. हालांकि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इन आरोपों को खारिज किया है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement