NDTV Khabar

सिर्फ 2जी स्कैम में ही नहीं, बल्कि इन मामलों में भी न्यायिक जांच में फेल रही है सीबीआई

सीबीआई न सिर्फ 2 जी स्पेक्ट्रम मामले में बल्कि कई अन्य हाई प्रोफाइल और राजनैतिक रूप से संवेदनशील मामलों में न्यायिक जांच की बाधा को पार नहीं कर पाई है.

153 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सिर्फ 2जी स्कैम में ही नहीं, बल्कि इन मामलों में भी न्यायिक जांच में फेल रही है सीबीआई

सीबीआई (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. सीबीआई सिर्फ 2जी में ही नहीं बल्कि इन केसों में भी विफल रही है.
  2. आरुषी हेमराज मर्डर केस में भी सीबीआई विफल रही है.
  3. 2जी मामले में भी कोर्ट ने सीबीआई को फटकार लगाई है.
नई दिल्ली: गुरुवार को 2जी स्पेक्ट्रम घोटाला मामले में सीबीआई को लेकर कोर्ट की टिप्पणी ने एक बार फिर से सीबीआई की प्रासंगिकता पर सवाल खड़े कर दिये हैं. एक बार फिर से 2जी घोटाले के न्यायिक जांच में सीबीआई की विफलता सामने आई है. सीबीआई न सिर्फ 2 जी स्पेक्ट्रम मामले में बल्कि कई अन्य हाई प्रोफाइल और राजनैतिक रूप से संवेदनशील मामलों में न्यायिक जांच की बाधा को पार नहीं कर पाई है.

सीबीआई जांच एजेंसी को कभी उच्चतम न्यायालय ने ‘पिंजरे में बंद तोता’ कहा था. उसे इस तरह के कई मामलों में अदालतों में शर्मसार होना पड़ा है और उसके द्वारा की गई जांच पर सवाल उठे हैं. 2 जी स्पेक्ट्रम आवंटन में कथित भ्रष्टाचार से लेकर संवेदनशील आरुषि हत्याकांड में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा की गई जांच की न सिर्फ निचली अदालतों से बल्कि उच्च न्यायालयों और शीर्ष अदालत से भी तीखी आलोचना की गई.

यह भी पढ़ें - आरोपों से बरी होने के बाद बोले राजा- 2जी मामला UPA सरकार को गिराने की साजिश थी

1. 2जी स्पेक्ट्रम मामले ने मनमोहन सिंह सरकार को हिला दिया था. इस मामले में सीबीआई ने चार अलग-अलग मामलों में आरोप पत्र दायर किया था. ये आरोप पत्र लाखों पन्नों में थे, लेकिन एजेंसी एक भी आरोपी को दोषी साबित नहीं कर पाई.

2. 2जी स्पेक्ट्रम से संबंधित दो मामलों- एयरसेल मैक्सिस सौदा और अतिरिक्त स्पेक्ट्रम आवंटन मामले में आरोपियों को आरोप मुक्त कर दिया गया जबकि मुख्य मामले में कल पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा और अन्य को अदालत ने बरी कर दिया था. विशेष सीबीआई न्यायाधीश ओ पी सैनी ने एस्सार समूह और लूप टेलीकॉम के प्रमोटरों को बरी कर दिया था.

यह भी पढ़ें - '2जी' के बाद कांग्रेस को 'आदर्श' में मिली राहत, पूर्व मुख्‍यमंत्री अशोक चव्हाण पर नहीं चलेगा केस

3. आरुषि-हेमराज हत्याकांड में सीबीआई की थ्योरी की अक्टूबर में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने तीखी आलोचना की थी. उसने इसे बेहद बेतुका बताया था. उच्च न्यायालय ने इस मामले में आरुषि के माता-पिता नूपुर और राजेश तलवार को बरी कर दिया था.

टिप्पणियां
4. सीबीआई की जांच राजनैतिक रूप से संवेदनशील बोफोर्स मामले में भी दिल्ली उच्च न्यायालय की जांच में नहीं टिक पाई थी. दिल्ली उच्च न्यायालय ने 31 मई 2005 को हिंदुजा बंधुओं--श्रीचंद, गोपीचंद और प्रकाश चंद और बोफोर्स कंपनी के खिलाफ सभी आरोपों को निरस्त कर दिया था. उच्च न्यायालय ने बोफोर्स मामले से निपटने को लेकर सीबीआई को फटकार लगाई थी. उच्च न्यायालय ने कहा था कि इससे सरकारी खजाने पर तकरीबन 250 करोड़ रुपये का बोझ पड़ा. 

VIDEO: क्‍या मीडिया और विपक्ष का घालमेल रहा 2जी? (इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement