NDTV Khabar

पीएनबी घोटाला : सीबीआई ने दूसरा आरोप पत्र दायर किया, कुल करीब 13578 करोड़ का घपला

सीबीआई के मुताबिक कुल 12 फर्जी एलओयू और एफएलसी के जरिये तकरीबन 512 करोड़ का गोलमाल किया गया है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएनबी घोटाला : सीबीआई ने दूसरा आरोप पत्र दायर किया, कुल करीब 13578 करोड़ का घपला

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. 18 आरोपियों में मेहुल चौकसी को दिखाया फरार
  2. पीएनबी के शेयर में 12 फीसदी की गिरावट
  3. दूसरी चार्जशीट में 7080 करोड़ का घोटाला बताया गया
मुंबई: सीबीआई ने पीएनबी घोटाले में अपना दूसरा आरोप पत्र भी दायर कर दिया. तकरीबन 12000 पन्नों के इस आरोप पत्र में मेहुल चौकसी को फरार दिखाया गया है. मामले में कुल 50 लोगों के बयान दर्ज किए गए हैं. सीबीआई के मुताबिक कुल 12 फर्जी एलओयू और एफएलसी के जरिये तकरीबन 512 करोड़ का गोलमाल किया गया है.

देश के सबसे बड़े बैंक घोटाले में सीबीआई ने बुधवार को दूसरी चार्जशीट फाइल कर दी. इस बीच चौथी तिमाही परिणाम में पंजाब नेशनल बैंक की इस घोषणा के बाद कि बैंक घोटाले में उसे 13,417 करोड़ का नुकसान हुआ है पीएनबी के शेयर में 12 फीसदी की गिरावट दिखी. बैंक के शेयर  का भाव 79 से गिरकर 75 रुपया हो गया.  बताया जा रहा है कि पीएनबी का शेयर बुधवार को साल के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया.

यह भी पढ़ें : PNB घोटाला : नीरव मोदी-मेहुल चौकसी की जब्त संपत्तियों का ब्योरा देने से ED का इनकार

पीएनबी घोटले में सीबीआई ने दूसरी चार्जशीट फाइल की है.तकरीबन 12000 पन्नों की इस चार्जशीट में नीरव मोदी के मामा मेहुल चौकसी को भी फरार दिखाया गया है. मामले में कुल 18 आरोपी दिखाए गए हैं जिनमें गिरफ्तार आरोपियों के साथ पीएनबी के वे चार तत्कालीन बड़े अफसर भी शामिल हैं जिन्हे पहली चार्जशीट में भी आरोपी दिखाया गया था. इनके नाम हैं इलाहाबाद  बैंक की पूर्व एमडी और सीईओ उषा अनंत सुब्रमण्यम, पीएनबी के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर ब्रह्मा जी राव और संजीव सरन एवं बैंक के ही जीएम नेहल अहद.
 
सीबीआई के मुताबिक अधिकारियों की भूमिका शक के दायरे में है क्योंकि आरोप है कि आरबीआई द्वारा सर्कुलर के जरिए आगाह करने के बाद भी उक्त अधिकारियों ने नजरअंदाज किया.
 
मेहुल चौकसी की तीन कंपनी गीतांजलि जेम्स, गिल्ली इंडिया लिमिटेड और नक्षत्र ब्रांड लिमिटेड को भी नामजद किया गया है. सीबीआई ने पहली चार्जशीट में जहां 6498 करोड़ का घोटाला बताया था वहीं दूसरी चार्जशीट में 7080 करोड़ का घोटाला बताया गया है. यह 142 फर्जी लेटर ऑफ़ अंडरटेकिंग और 58 फॉरेन लेटर ऑफ़ क्रेडिट के जरिए हुआ है. यानि सीबीआई की जांच में अब तक तकरीबन 13578 करोड़ का घोटाला सामने आया है.
 
चार्जशीट में खुलासा किया गया है कि पीएनबी के गिरफ्तार डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी ने फर्जीवाड़े में शामिल होने के लिए गीताजंलि कंपनी से एक करोड़ रूपये की रिश्वत ली थी. इस बीच पीएनबी ने अपनी चौथी तिमाही में बैंक घोटाले में 13,417 करोड़ के नुकसान की बात मानी है. इसका परिणाम बैंक के शेयर की कीमतों पर पड़ा है.

टिप्पणियां
VIDEO : बैंकिंग घोटाले पर हंगामा

मामले में 59 गवाहों के बयान दर्ज किए गए हैं तो 2400 दस्तावेज भी सबूत के तौर पर जप्त किए गए हैं. सीबीआई पीएनबी घोटाले में कुल 3 एफआईआर दर्ज कर अब तक दो मामलों में चार्जशीट फाइल कर चुकी है. लेकिन घोटालों के  मास्टर माइंड मामा-भांजा अब भी फरार हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement