केंद्र सरकार हर मोर्चे पर विफल : कांग्रेस प्रवक्ता संजय निरूपम

नेता ने कहा, सच तो यह है कि मोदी सरकार हर मोर्चे पर विफल रही है, चाहे वह किसानों का मामला हो, रोजगार का क्षेत्र हो या सीमा की सुरक्षा को लेकर हो. उन्होंने कहा कि देश में नौजवान कष्ट में है, सेना के जवानों के सर काटे जा रहे है और किसान प्रतिदिन आत्महत्या कर रहे हैं .

केंद्र सरकार हर मोर्चे पर विफल : कांग्रेस प्रवक्ता संजय निरूपम

कांग्रेस प्रवक्ता संजय निरूपम

खास बातें

  • केंद्र में मोदी सरकार के तीन वर्ष पूरे होने जा रहे हैं
  • छत्तीसगढ़ में किसानों की आत्महत्या करने का सिलसिला थमा नहीं है
  • केंद्र में मोदी सरकार के तीन वर्ष पूरे होने जा रहे हैं
रायपुर:

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता और पूर्व सांसद संजय निरूपम ने केंद्र सरकार पर हर मोर्चे पर विफल होने का आरोप लगाते हुए कहा कि देश में किसानों की आत्महत्या के मामलों में इजाफा हुआ है. निरूपम ने सोमवार यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘केंद्र में मोदी सरकार के तीन वर्ष पूरे होने जा रहे हैं. सच तो यह है कि मोदी सरकार हर मोर्चे पर विफल रही है, चाहे वह किसानों का मामला हो, रोजगार का क्षेत्र हो या सीमा की सुरक्षा को लेकर हो. उन्होंने कहा कि देश में नौजवान कष्ट में है, सेना के जवानों के सर काटे जा रहे है और किसान प्रतिदिन आत्महत्या कर रहे हैं .’ कांग्रेस नेता ने दावा किया कि महाराष्ट्र में हर रोज 13 किसान आत्महत्या कर रहे हैं और छत्तीसगढ़ में किसानों की आत्महत्या करने का सिलसिला थमा नहीं है. मोदी सरकार के पिछले तीन वष्रो में 2014 में 12360, 2015 में 12602 और वर्ष 2016 में 14000 किसानों ने आत्महत्या की है.

उन्होंने कहा, ‘जब केंद्र में यूपीए की सरकार थी तब किसानों की समस्या का निदान किया गया था और रिण मुक्ति का पैकेज देकर रिण ग्रस्त किसानाो की समस्या का निराकरण करने का प्रयास किया गया था. भाजपा सरकार ने पूंजीपतियो का एक लाख 54 हजार करोड़ रूपए का कर्ज माफ किया है, जबकि हमारे अन्नदाता को फूटी-कौड़ी भी सरकार की तरफ से नहीं दिया गया.’ निरूपम ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रतिवर्ष दो करोड़ बेरोजगारों को रोजगार देने का वादा किया था लेकिन बेरोजगारों को नौकरी देने में सरकार पूरी तरह विफल रही है.

उन्होंने कहा, ‘पूरे देश में चुने हुए व्यक्तियों के खिलाफ सिर्फ बदले की भावना से कार्रवाई की जा रही है.  पी. चिदंबरम और लालू प्रसाद के यहां छापेमारी की गयी है लेकिन भ्रष्टाचार में डूबे भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेता के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जा रही है. छत्तीसगढ़ में नान घोटाला, चावल घोटाला, पीडीएस घोटाले की जांच नहीं हो रही है. केवल विपक्ष के नेताओं को ही परेशान किया जा रहा है.
 
 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com