NDTV Khabar

केंद्र ने ‘ब्लड बैंक’ का नाम ‘ब्लड सेंटर’ करने का प्रस्ताव किया

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रस्तावित नियमों के मुताबिक शिशु को जन्म देने के बाद एक साल तक, गर्भपात के बाद छह महीने तक, स्तनपान कराने और मासिक चक्र के दौरान महिलाएं रक्तदान नहीं कर सकती हैं. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
केंद्र ने ‘ब्लड बैंक’ का नाम ‘ब्लड सेंटर’ करने का प्रस्ताव किया

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली: केंद्र ने ‘ ब्लड बैंक ’ का नाम बदल कर ‘ ब्लड सेंटर ’ करने का प्रस्ताव किया है. ड्रग्स टेकनिकल एडवाइजरी बोर्ड द्वारा हाल ही में मंजूरी दिए गए प्रस्तावित नियमों के मुताबिक ‘ ब्लड सेंटर ’ (रक्त केंद्र) किसी संगठन या संस्थान में अधिकृत परिसर होगा. केंद्र ने रक्त दान नियमों को कारगर करने के लिए 103 शर्त निर्धारित की है. रक्त दान करने वालों की न्यूनतम उम्र 18 साल और अधिकत उम्र 65 वर्ष हो. स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रस्तावित नियमों के मुताबिक शिशु को जन्म देने के बाद एक साल तक, गर्भपात के बाद छह महीने तक, स्तनपान कराने और मासिक चक्र के दौरान महिलाएं रक्तदान नहीं कर सकती हैं. 

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार का फैसला: 2 लाख 60 हजार डाक सेवकों का वेतन-भत्ता 56 फीसदी बढ़ाया

टिप्पणियां
मसौदा नियम कैदियों के रक्त दान करने पर रोक लगाता है. यह उन लोगों के भी रक्तदान पर रोक लगाता है, जो ऐसे इलाकों के निवासी हैं या जिन्होंने उन इलाकों की यात्रा की है जहां रक्त चढ़ाने से होने वाले रोगों का संक्रमण होने के जोखिम हैं. नियमों के तहत मामूली सर्जरी के बाद छह महीने तक और बड़ी सर्जरी के बाद साल भर तक रक्त दान को टालने की सिफारिश की गई है. साथ ही, मलेरिया से उबरने के बाद तीन महीने तक कोई व्यक्ति रक्त दान नहीं कर सकता. 

VIDEO: ग्रामीण डाकसेवकों के वेतन-भत्ते बढ़ाने का फैसला
डेंगू और चिकुनगुनिया से उबरने के बाद छह महीने तक और जीका विषाणु के संक्रमण से उबरने के चार महीने बाद तक कोई व्यक्ति रक्त दान नहीं कर सकता.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement