Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

कैबिनेट मंत्री को मिलते हैं 5 चपरासी, 1975 में जारी हुआ था शासनादेश

आरटीआई में दी गई सूचना के अनुसार, कैबिनेट मंत्री को कार्यालय के कार्यो के लिए 1 वरिष्ठ चपरासी और 4 चपरासी यानी कुल 5 लोग मिलते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कैबिनेट मंत्री को मिलते हैं 5 चपरासी, 1975 में जारी हुआ था शासनादेश

आरटीआई से हुआ खुलासा एक केन्‍द्रीय कैबिनेट मंत्री को मिलते हैं पांच चपरासी (फाइल फोटो)

लखनऊ:

केंद्र सरकार के कैबिनेट मंत्री को कार्यालय के कार्यो के लिए 5 चपरासी मिलते हैं. यह व्यवस्था 25 अक्टूबर, 1975 को जारी शासनादेश के अनुसार है. भारत सरकार के कैबिनेट सचिवालय ने यह जानकारी सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. नूतन ठाकुर को आरटीआई के तहत दी है.

गुरुग्राम में 224 नर्सिंग होम और क्लीनिक अवैध : RTI में हुआ खुलासा

डॉ. ठाकुर ने बताया कि आरटीआई में दी गई सूचना के अनुसार, कैबिनेट मंत्री को कार्यालय के कार्यो के लिए 1 वरिष्ठ चपरासी और 4 चपरासी यानी कुल 5 लोग मिलते हैं.

राज्यमंत्री को 1 वरिष्ठ चपरासी और 3 चपरासी यानी 4 लोग तथा उपमंत्री को 1 वरिष्ठ चपरासी तथा 1 चपरासी यानी 2 लोग कार्यालय में सहायता के लिए दिए जाते हैं.

डॉ. ठाकुर ने बताया कि सूचना के मुताबिक, अफसरों में सचिव से ले कर संयुक्त सचिव स्तर के अफसरों को मात्र 1 चपरासी अनुमन्य है, जबकि उपसचिव तथा अनुसचिव स्तर के अफसरों को 2 अफसर पर 1 चपरासी अनुमन्य है.


टिप्पणियां

VIDEO: राज्य महिला आयोग के पास शिकायतों का अंबार

इसी आरटीआई सूचना के अनुसार, सचिव स्तर के अधिकारी को 3 स्टेनोग्राफर तथा 1 व्यक्तिगत सहायक, अतिरिक्त तथा संयुक्त सचिव स्तर पर 2 स्टेनोग्राफर तथा 1 निजी सहायक एवं निदेशक स्तर पर 1 स्टेनोग्राफर दिया जाता है. (इनपुट आईएनएस)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली हाईकोर्ट का पुलिस को आदेश- भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं के खिलाफ दर्ज करें FIR

Advertisement