NDTV Khabar

राफेल सौदे के दस्तावेज केंद्र सरकार ने सीलबंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को सौंपे

केंद्र ने कहा है कि राफेल सौदा प्रक्रिया के तहत ही किया गया है और भारतीय ऑफसेट पार्टनर चुनने में उसकी कोई भूमिका नहीं है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राफेल सौदे के दस्तावेज केंद्र सरकार ने सीलबंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को सौंपे

फाइल फोटो

नई दिल्ली:

राफेल डील मामले में केंद्र सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में सीलबंद रिपोर्ट दाखिल की गई है. सूत्रों के मुताबिक इस रिपोर्ट में कीमतों की भी जानकारी दी गई है. इसके अलावा राफेल डील की प्रक्रिया और दसॉल्ट  कंपनी के भारतीय ऑफसेट पार्टनर के चुनाव पर भी कागजात सौंपे गए हैं. केंद्र ने कहा है कि राफेल सौदा प्रक्रिया के तहत ही किया गया है और भारतीय ऑफसेट पार्टनर चुनने में उसकी कोई भूमिका नहीं है. ये ऑरिजनल इक्विपमेंट मैनुफैक्चरर ( OEM) यानी दसॉल्ट एविएशन का फैसला था. आफसेट पार्टनर का चुनाव दो निजी कंपनियों का फैसला था.  इसके अलावा केंद्र सरकार की ओर से कहा गया है कि अभी तक भारतीय ऑफसेट पार्टनर को कोई रकम नहीं दी गई है. कांट्रेक्ट के मुताबिक भारतीय ऑफसेट पार्टनर का दायित्व अक्तूबर 2019 से शुरू होगा इसमें दसॉल्ट एविएशन का ऑफसेट शेयर 19.9 फीसदी और MBDA का 6.27 फीसदी शेयर होगा. फिलहाल मामले की सुनवाई अब 14 नवंबर को होगी.

छत्तीसगढ़ः राहुल गांधी का पीएम मोदी पर हमला, 526 करोड़ के राफेल जहाज 1600 करोड़ में खरीदे


सुप्रीम कोर्ट ने क्या पूछा था केंद्र सरकार से

  • क्या है राफेल की कीमत और फायदे 
  • दस दिन में सीलकवर में ब्योरा दें 
  • ऑफसेट पार्टनर का ब्यौरा भी मांगा 
  • कहा या तो याचिकाकर्ताओं को दे सकते हैं 
  • अगर गोपनीय है तो कोर्ट को दे सकते हैं 
Rafale Deal:अपने ही बुने जाल में फंस गई राफेल बनाने वाली कंपनी दसॉल्ट, CEO छुपा रहे सचः कपिल सिब्बल
टिप्पणियां

गौरतलब है कि राफेल डील पर मोदी सरकार पर कांग्रेस सहित विपक्षी दलों ने घोटाले का आरोप लगाया है. उनका कहना है कि उस सौदे में मुकेश अंबानी को फायदा पहुंचाया गया है और ज्यादा कीमत में विमान खरीदे गए हैं इससे देश के खजाने को नुकसान पहुंचा है.

राफेल मुद्दे को लेकर कन्हैया का पीएम मोदी पर हमला​

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement